ताज़ा खबर

मलिक काफूर करता था अलाउद्दीन खिलजी से प्यार, 'पद्मावती' को मानता था अपनी सौत

2018-01-25_kafurandkhilji.jpg

आखिरकार फिल्म ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को सिनेमा घरों में प्रदर्शित हो ही गयी. पूरी फिल्म में दो ही शानदार किरदार रहे. अलाउद्दीन खिलजी और उस पर मार-मिटने वाला गुलाम मलिक काफूर. मलिक काफूर पहली ही नज़र में खिलजी को अपना दिल दे बैठा था. मलिक अपने मालिक खिलजी के प्रति हमेशा से ही वफादार था और अंत तक रहा. 

कौन था मलिक काफूर?

काफिर खानदार से ताल्लुक रखने के बावजूद एक किन्नर को अपने गुलाम के तौर पर रख लेना और उसपर भरोसा करके मलिक को अपनी सेना का सेनापति बना देना चौंका देने वाला था. माना जाता है कि बाद में मलिक ने अलाउद्दीन खिलजी के प्यार में इस्लाम धर्म भी अपना लिया था. यही नहीं दिल्ली सल्तनत के प्रति वफादारी निभाने के लिए कसमें भी खाई. इसी काफिर की मौजूदगी में खिलजी ने दक्षिण भारत के हिंदू राज्यों पर चढ़ाई की और गैर इस्लामी लोगों को मौत की नींद सुला दिया. बाद में मलिक काफूर में रामेश्वरम में मस्जिद भी बनवाई. मलिक से संधि करने के बाद काकतिया राजा ने उन्हें एक कोहिनूर हीरा उपहार में दिया, जिसे मलिक काफूर ने अलाउद्दीन को भेज दिया. खिलजी को मलिक की कामयाबी रास नहीं आई और उसे सेना के अधिकार से बाहर कर दिया. मलिक काफूर में सबसे अच्छी बात थी कि उसे जो भी संधियों से खजाना लूटने से नायाब चीज मिलती वो फ़ौरन अपने मालिक अलाउद्दीन को भेज देता. वो खिलजी से बहुत प्यार करता था. परन्तु इसी खिलजी का जब मलिक काफूर से मोह भंग हुआ तो उसे उसने जान से मरवा दिया.

फिल्म में ऐसे कई सीन हैं जब मलिक काफूर और अलाउद्दीन के बीच के प्यार को दिखाने की कोशि‍श की गई है. मलिक खिलजी को इतना चाहता था कि हर वक्त बस उसके पास ही रहता था. पद्मावत में एक सिक्वेंस है जब खिलजी अपनी बीवी मेहरून्निसां के साथ अंतरंग पलों में होता है तो मलिक काफूर छिप-छिपकर उसे देखता है. इसके अलावा पद्मावती की एक झलक देखने के लिए जब अलाउद्दीन चितौड़ पर चढ़ाई कर देता है तो टेंट में खिलजी का तनाव कम करने के लिए काफिर उनके लिए गाना गाता है और यही नहीं खिलजी को नहलाता भी है. लेकिन पद्मावती के लिए अलाउद्दीन का इतना प्यार देखकर उसे जलन भी होती है.

जिम सर्भ ने ‘पद्मावत’ में गुलाम का किरदार निभाया है. 27 अगस्त 1987 को मुंबई में एक पारसी परिवार में जन्मे सर्भ एक थियेटर आर्टिस्ट हैं. भारतीय रंगमंच में अपने योगदान के लिए 2015 में उन्हें फोर्ब्स इंडिया अंडर 30 लिस्ट में जगह दी गई थी.

फिल्म पद्मावत में सभी का अभिनय देखने लायक है.



loading...