ताज़ा खबर

RBI ने दी सौगात, रेपो रेट में 0.25 पैसे की कटौती, Home Loan और Car Loan की EMI होगी सस्ती

2019-02-07_RBI.jpg

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की मौद्रिक नीति समीक्षा में (MPC) ब्याज दरों में 25 बेसिस प्वाइंट की कमी की गई है. इसका फायदा होम लोन और कार लोन की ईएमआई देने वाले करोड़ों उपभोक्ताओं को मिलेगा. आपको बता दें कि आरबीआई का रेपो रेट अभी 6.50 प्रतिशत है, जो घटकर 6.25 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गया है. पिछले तीन मॉनिटरी पॉलिसी में आरबीआई ने नीतिगत दर को अपरिवर्तित रखा था. इससे पहले केंद्रीय बैंक ने 1 अगस्त 2018 को रेपो रेट 0.25 फीसदी बढाकर 6.50 प्रतिशत कर दिया था.

इस कटौती के बाद रिवर्स रेपो रेट 0.25 प्रतिशत घटकर 6.25 प्रतिशत हो गया. कच्चे तेल की कीमत में स्थिरता और डॉलर के मुकाबले रुपये में स्थिरता के कारण महंगाई दर में कमी आने के कारण मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दरों को घटाए जाने की उम्मीद थी.

एसबीआई ने अपनी शोध रिपोर्ट इकोरैप में कहा था कि रिजर्व बैंक को रुपये की गिरावट थामने के लिए ब्याज दर में कम से कम 0.25 प्रतिशत की वृद्धि करनी चाहिए. वहीं, मॉर्गन स्टेनली ने भी कहा था कि उसे अक्टूबर की समीक्षा बैठक में रिजर्व बैंक द्वारा अल्पावधि ब्याज दर बढ़ाने की उम्मीद है. हालांकि, नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है.
RBI के नए गवर्नर शक्तिकांत दास के कार्यकाल की यह पहली समीक्षा बैठक है. शक्तिकांत दास ने 12 दिसंबर को RBI की कमान संभाली थी.

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, "वर्ष 2019-20 के लिए वृद्धि दर के लक्ष्य को 7.4 फीसदी पर बरकरार रखा गया है. वर्ष 2019-20 के पहले छह महीनों में मुद्रास्फीति की दर 3.2-3.4 फीसदी रहने का अनुमान है, तथा तीसरी तिमाही में इसके 3.9 फीसदी रहने का अनुमान है. चौथी तिमाही के लिए मुद्रास्फीति के लक्ष्य को घटाकर 2.8 फीसदी किया गया."

रेपो रेट वह दर होती है, जिस पर आरबीआई बैंकों को कर्ज देता है. दरअसल जब भी बैंकों के पास फंड की कमी होती है, तो वे इसकी भरपाई करने के लिए केंद्रीय बैंक यानी आरबीआई से पैसे लेते हैं. आरबीआई की तरफ से दिया जाने वाला यह लोन एक फिक्स्ड रेट पर मिलता है. यही रेट रेपो रेट कहलाता है. इसे भारतीय रिजर्व बैंक हर तिमाही के आधार पर तय करता है. 



loading...