ताज़ा खबर

RBI का तोहफा: रेपो रेट 0.25 फीसदी घटा, होमलोन और कार लोन की EMI होगी कम

नए वित्त वर्ष की शुरुआत में ही LPG गैस सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, हवाई ईधन भी हुआ महंगा

शेयर मार्केट में नए वित्त वर्ष के पहले दिन शानदार तेजी, सेंसेक्स पहली बार 39 हजार के पार

1 अप्रैल से विमान नहीं उड़ायेंगे जेट एयरवेज के 1 हजार पायलट्स, 3 महीने से सैलरी नहीं मिलने से हैं नाराज

मुकेश अंबानी की राह पर चले लक्ष्मी मित्तल, 1600 करोड़ रुपये देकर छोटे भाई प्रमोद मित्तल की सहायता

आर्थिक संकट से गुजर रही जेट एयरवेज के चेयरमैन नरेश गोयल ने दिया इस्तीफा, पत्नी अनीता गोयल भी बोर्ड से बाहर

मुसीबत में फंसे अनिल अंबानी को मिला बड़े भाई मुकेश अंबानी का साथ, चुकाया एरिक्सन को 458.77 करोड़ का बकाया

2019-04-04_RBIRepoRate.jpg

भारतीय रिजर्व बैंक ने नए वित्तीय वर्ष की पहली मौद्रिक समीक्षा नीति की घोषणा कर दी है. आरबीआई ने रेपो रेट में 25 बीपीएस प्वाइंट की कटौती की घोषणा कर दी है. इससे अब लोगों की ईएमआई में कमी होने की संभावना है. आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने इस बात का एलान किया. अब रेपो रेट 6.25 फीसदी से घटकर 6 फीसदी हो गया है. वहीं रिवर्स रेपो रेट 5.75 फीसदी हो गया है.

जिन लोन की ईएमआई पर असर पड़ेगा उनमें होम, कार, पर्सनल, एजूकेशन है. विशेषज्ञों का कहना है कि इस समय अर्थव्यवस्था के जो हालात हैं, उसमें रेपो रेट की कटौती होना तय था.

इससे पहले, बीते फरवरी में रिजर्व बैंक ने रेपो दर में चौथाई फीसदी की कमी की थी जो कि पिछले डेढ़ साल में पहली कटौती थी. ज्ञातव्य है कि केंद्रीय बैंक द्वारा वाणिज्यिक बैंकों को अल्पावधि ऋण जिस ब्याज दर पर मुहैया करवाया जाता है उसे रेपो रेट कहते हैं. आरबीआई गवर्नर पहले ही शेयरधारकों, औद्योगिक निकायों, जमा संगठनों, बैंकर और एमएसएमई प्रतिनिधियों से मुलाकात कर उनका पक्ष ले चुके हैं.
 



loading...