केरल में बाढ़ के बाद अब 'रैट फीवर' का प्रकोप, 9 की मौत, 13800 लोगों को बुखार

2018-09-04_keralaratfever.jpg

केरल के ज्यादातर हिस्सों से बाढ़ का पानी उतरने के बाद अब वहां बुखार की परेशानी ने घेर लिया है. लेप्टोस्पायरोसिस सहित अन्य बुखार के कारण 29 अगस्त से अभी तक 9 लोग मारे गए हैं. स्वास्थ्य सेवा निदेशालय के अनुसार, सोमवार को पलक्कड़ और कोझीकोड़ जिलों में लेप्टोस्पायरोसिस के कारण सोमवार को एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई.

अधिकारियों ने बताया कि राज्य के विभिन्न अस्पतालों में 71 लोग लेप्टोस्पायरोसिस (रैट फीवर) से ग्रस्त पाये गये हैं, जबकि 123 लोगों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं. उन्होंने बताया कि सोमवार को 13,800 से ज्यादा लोगों ने अस्पतालों में विभिन्न बुखारों के लिए अपना इलाज कराया. इनमें से डेंगू के 11 मामले निकले जबकि 21 संदिग्ध मामले थे.

केरल में जल जनित बीमारी से लोगों के मरने की घटना के बाद राज्य सरकार ने प्रदेश में लोगों से अतिरिक्त निगरानी बरतने के लिए अलर्ट जारी किया है. रैट फीवर के अधिकतर मामले कोझीकोड़ और मलप्पुरम जिलों से आए हैं. स्वास्थ्य मंत्री के शैलजा ने कहा कि राज्य सरकार सभी आवश्यक और एहतियाती कदम उठा रही है और बाढ़ के पानी के संपर्क में आने वाले लोगों से अपील की है कि वह अतिरिक्त निगरानी रखें.

आपको बता दें कि केरल में बारिश और बाढ़ की वजह से 488 लोगों की मौत हो गई और राज्य के 14 जिलों में करीब 54.11 लाख लोग प्रभावित हुए. केरल में यह पिछली एक सदी की सबसे खराब स्थिति थी. राज्यभर में बाढ़ से लगभग 14.52 लाख लोग विस्थापित हुए और वे राहत शिविरों में रह रहे हैं. इस दक्षिणी राज्य में 57,024 हेक्टेयर से अधिक जमीन पर लगी फसल बर्बाद हो गई.



loading...