चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू यादव को नहीं मिली जमानत, रांची हाईकोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला

बिहार में नहीं थम रहा दिमागी बुखार का कहर, अब तक 144 बच्चों की मौत, झारखंड में भी अलर्ट जारी

बिहार में चमकी बुखार से मरने वालों की संख्या 128 हुई, पीड़ित बच्चों से मिलने SKMCH हॉस्पिटल पहुंचे सीएम नीतीश कुमार

बिहार में दिमागी बुखार से 126 मासूमों की मौत, केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन और बिहार स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ केस दर्ज

बिहार में नहीं थम रहा दिमागी बुखार का कहर, अब तक 100 बच्चों की मौत, झारखंड में भी अलर्ट जारी

बिहार में गर्मी का कहर जारी, लू से 2 दिनों में 143 मौतें, कई जिलों के स्कूल बंद

बिहार में दिमागी बुखार से अब तक 69 मरीजों की मौत, प्रशासन ने लीची से किया सावधान

2019-01-04_LaluYadav.jpg

रांची हाईकोर्ट ने लालू यादव की जमानत पर फैसला सुरक्षित रख लिया है. चारा घोटाले में सजा काट रहे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के लिए आज बेहद अहम माना जा रहा था. इसकी वजह हाईकोर्ट में उनकी जमानत याचिका पर हो रही सुनवाई थी. कोर्ट में लालू की तरफ से बढ़ती उम्र और सेहत को वजह बताते जमानत देने की बात कही गई है. कोर्ट में लालू की तरफ से कांग्रेस के नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल पैरवी कर रहे हैं.

बेहतर इलाज कराने के लिए लालू की तरफ से कोर्ट से जमानत देने की बात कही गई है. पिछली बार 21 दिसंबर को सीबीआई के निवेदन पर कोर्ट ने जमानत याचिका पर सुनवाई टालकर 4 जनवरी की तारीख तय दी थी. लालू फिलहाल रांची के रिम्स में अपना इलाज करा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक लालू डायबीटिज, क्रॉनिक किडनी और हार्ट समेत करीब 11 गंभीर बीमारियों का इलाज करा रहे हैं.

आपको बता दें कि देवघर कोषागार मामला (आरसी 64 ए/96) में लालू को छह जनवरी 2018 को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई. चाईबासा कोषागार मामला (आरसी 68 ए/96) में कोर्ट ने लालू को 24 जनवरी 2018 को पांच साल की सजा दी. दुमका कोषागार मामला (आरसी 38 ए/96) में 24 मार्च 2018 को लालू को सात साल की सजा सुनाई गई थी.



loading...