ताज़ा खबर

राम मंदिर पर मोदी सरकार को चुनौती; सत्ता में आना है तो राम मंदिर निर्माण अत्यंत आवश्यक

वाराणसी: प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- हमारा मंत्र रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म है

अखिलेश यादव ने कहा- यूपी में रामलीला में राम-सीता और रावण का किरदार करने वालों को भी मिले पेंशन

वाराणसी में शुरू हुआ ‘प्रवासी भारतीय सम्मेलन’, सुषमा स्वराज- सीएम योगी ने किया शुभारंभ

गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के विधेयक पर योगी कैबिनेट की मुहर, सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण होगा लागू

अवैध खनन मामले में IAS बी.चन्द्रकला और सपा नेता समेत 4 को ED का समन

यूपी: ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर घने कोहरे के चलते आपस में टकराए 50 वाहन, 30 से ज्यादा लोग घायल

2018-06-05_suresh-das.jpg

राम मंदिर पर सियासत आज से नहीं काफी लम्बे वक्त से चली आ रही है. अब इसमें दिगंबर अखाड़े के महंत ने छोंक मारा है. दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास ने कहा है कि अगर भाजपा 2019 में फिर से सत्ता में काबिज रहना चाहती है तो उसे राम मंदिर बनाना ही होगा. चेतावनी देते हुए उन्होंने आगे कहा कि अगर वह ऐसा नहीं करते तो हम भारतीय जनता पार्टी के विरोध में आंदोलन शुरू करेंगे जिससे उनकी निश्चित ही हार होगी.

महंत ने ये बयान केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के बयान के प्रतिक्रिया के रूप में दिया है. आपको बता दें, गोवा के पणजी में आयोजित ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया के कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री नकवी ने कहा था कि 2019 के चुनाव में भाजपा का एकमात्र एजेंडा विकास ही होगा.

राम मंदिरको लेकर उनसे सवाल किया गया. जिसे उन्होंने सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा कि 2019 के चुनावों में हिंदुत्व और 'राम मंदिर' के मुद्दों के लिए कोई जगह नहीं होगी, बस विकास ही हमारा एक सूत्रीय एजेंडा होगा. प्रधानमंत्री मोदी ही नहीं, भाजपा का भी एकमात्र ध्येय विकास ही है. जनता के सामने विकास ही एकमात्र विकल्प है. विपक्ष को भी विकास के ही एजेंडे पर चुनाव लड़ना चाहिए.

केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह मुसलमानों में तीन तलाक को खत्म करने के आड़े आ रही है. यह धर्म का मामला नहीं है बल्कि कुरीति है और इस पर प्रतिबंध लगना चाहिए. आगामी सत्र में हम इसे राज्यसभा में पारित कराएंगे.

महंत ने साफ तौर पर सरकार को धमकी दी है अगर आन्दोलन हुआ तो सरकार जरूर गिरेगी. 2019 के चुनाव के लिए मंदिर का निर्माण ही एकमात्र विकल्प है. 



loading...