सीएम वसुन्धरा राजे ने 55 पॉक्सो कोर्ट को दी स्वीकृति, अब यौन अपराधियों को जल्द मिल सकेगी सजा

विधानसभा चुनाव परिणाम: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में मायावती को बड़ी सफलता, अखिलेश को बड़ा नुकसान

Rajasthan Assembly Election Result: सीएम पद को लेकर सचिन पायलट और अशोक गहलोत में खींचतान, राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस टली

विधानसभा चुनाव परिणाम: राजस्थान में कांग्रेस को बहुमत, झालरापाटन सीट पर जीतीं वसुंधरा राजे

विधानसभा चुनाव: राजस्थान में 199 सीटों के लिए मतदान जारी, दोपहर 1 बजे तक 41.43 फीसदी वोटिंग

शरद यादव की विवादित टिप्‍पणी पर राजे ने कहा- मैं अपमानित महसूस कर रही हूं, चुनाव आयोग को एक्शन लेना चाहिए

राजस्थान के सुमेरपुर में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- जमानत पर बाहर घूम रहे माँ-बेटे को अब कौन बचाएगा

2018-08-02_RajasthanPoscoCourt.jpg

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने प्रदेश में 55 पॉक्सो कोर्ट खोले जाने की स्वीकृति दी है. इससे बाल यौन उत्पीड़न के अपराधियों को शीघ्र सजा दिलवाई जा सकेगी. यह कोर्ट प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में स्थापित किए जाएंगे. जिनमें से हर जिले मे कम से कम एक पॉक्सो कोर्ट होगी. मामलों की तुरंत सुनवाई के लिए अब प्रदेशभर में कुल 56 पॉक्सो कोर्ट होंगी जिनमें से एक कोर्ट पहले ही स्थापित की जा चुकी है. 

राज्यभर में खुलने वाले इन नए न्यायालयों के लिए कुल 660 पद सृजित किए गए हैं. स्वीकृति के अनुसार बीकानेर, बालोतरा, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, चूरू, दौसा, धौलपुर, डूंगरपुर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर जिला, जालौर, जैसलमेर, झुंझुनूं, करौली, मेड़ता, प्रतापगढ़, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सीकर, सिरोही, जोधपुर जिला तथा टोंक में एक-एक पॉक्सो कोर्ट स्थापित की जाएंगी.

इसी प्रकार अजमेर क्रम संख्या-2, अलवर क्रम संख्या-2, अलवर क्रम संख्या-3, अलवर क्रम संख्या-4, बारां क्रम संख्या-2, भरतपुर क्रम संख्या-2, भीलवाड़ा क्रम संख्या-2, बूंदी क्रम संख्या-2, जयपुर महानगर क्रम संख्या-2, जयपुर महानगर क्रम संख्या-3, जयपुर महानगर क्रम संख्या-4, जयपुर महानगर क्रम संख्या-5, जयपुर महानगर क्रम संख्या-6, झालावाड़ क्रम संख्या-2, कोटा क्रम संख्या-2, कोटा क्रम संख्या-3, कोटा क्रम संख्या-4, कोटा क्रम संख्या-5, पाली क्रम संख्या-2, पाली क्रम संख्या-3 और उदयपुर क्रम संख्या-2 में भी एक-एक पॉक्सो कोर्ट खोली जाएंगी.

पॉक्सो कोर्ट खोलने की मंजूरी मिलने पर महिला आयोग अध्यक्ष सुमन शर्मा ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा कि इससे बाल यौन उत्पीड़न की शिकायतों में कमीं आएगी और अपराधियों को तुरंत सजा मिल सकेगी. इससे प्रदेश में पिछले काफी वक्त से अटके हुए केस की सुनवाई में भी तेजी होगी और पिड़ितों को जल्द से जल्द न्याय मिल पाएगा.



loading...