ताज़ा खबर

कांग्रेस नेताओं को सोनिया गांधी का साफ संदेश, राहुल गांधी अब मेरे भी बॉस हैं

CBI vs CBI: आलोक वर्मा का जवाब लीक होने गुस्सा हुए CJI रंजन गोगोई, बोले- आप सुनवाई के लायक ही नहीं

CBI vs CBI: सुप्रीमकोर्ट की सख्ती पर आलोक वर्मा ने सीलबंद लिफाफे में दाखिल किया जवाब, कल होगी सुनवाई

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर अब 26 नवंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

CBI विवाद: आलोक वर्मा से सुप्रीमकोर्ट ने जल्द से जल्द जवाब दाखिल करने को बोला, मंगलवार को निर्धारित सुनवाई नहीं टलेगी

सरकार बनाम RBI: मुंबई में आरबीआई बोर्ड की मीटिंग जारी, राहुल गांधी बोले- उम्मीद है मोदी को उनकी जगह दिखायेंगे उर्जित

अमृतसर ब्लास्ट: सेना प्रमुख पर दिए बयान को लेकर 'AAP' नेता फुल्का का यूटर्न, कहा- इसके लिए मुझे खेद है

2018-02-08_sonia-rahul.jpg

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने बेटे और पार्टी के मौजूदा अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना बॉस बताया है. पार्टी संसदीय दल की बैठक में सोनिया ने कहा कि नए बॉस के बारे में कोई आशंका नहीं होनी चाहिए. उम्मीद है कि आप सभी राहुल के साथ मिलकर काम करेंगे. इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि एनडीए की सरकार संवैधानिक संस्थाओं को लगातार कमजोर कर रही है. उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार अर्थव्यवस्था के बारे में जो दावे कर रही है वो पूरी तरह गलत है. नई नौकरियां मिल नहीं रही हैं बल्कि पुरानी नौकरियां खत्म हो रही हैं. उन्होंने मोदी राज में दलितों पर हमले बढ़ने का भी आरोप लगाया.

सोनिया ने आगे कहा  कि गुजरात में बेहद कठिन परिस्थिति में कांग्रेस पार्टी ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया. हाल ही में राजस्थान में हुए उपचुनावों में भी पार्टी को शानदार सफलता मिली है. इससे पता चलता है कि हवा का रुख बदल रहा है. उन्होंने उम्मीद जताई कि कर्नाटक में पार्टी सत्ता में वापसी करेगी. गौरतलब है कि दक्षिण के इस अहम राज्य में कांग्रेस की सरकार और वहां मार्च या अप्रैल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं.

सोनिया ने कहा कि मोदी सरकार ने अपने चार साल के कार्यकाल में संवैधानिक संस्थाओं को योजनाबद्ध तरीके से कमजोर करने का काम किया गया. खुद संसद, न्यायपालिका, मीडिया और नागरिक समाज को कमजोर किया गया है. राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ जांच एजेंसियों को खुला छोड़ दिया गया है.

इस पहले बुधवार को पार्टी की पुरानी परंपरा को पुनर्जीवित करते हुये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश भर से आए अपने नेताओं के प्रतिनिधिमंडलों और कार्यकर्ताओं के साथ अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) मुख्यालय में मुलाकात की. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी सुबह करीब 9 बज कर 15 मिनट पर यहां अकबर रोड स्थित पार्टी मुख्यलाय आए और दिल्ली, राजस्थान और चुनाव वाले कर्नाटक सहित विभिन्न राज्यों के कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात की. पार्टी प्रमुख के साथ पहले से ही इन प्रतिनिधियों के मुलाकात का कार्यक्रम तय था.

पूर्व में कांग्रेस अध्यक्ष तक आसानी से पहुंच का मुद्दा चर्चा का विषय रहा है. पिछले कई सालों से एआईसीसी में कांग्रेस प्रमुख का कार्यालय बंद रहा है. यह तब खुलता था जब पूर्व पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी कांग्रेस कार्यकारी समित (सीडब्लयूसी) की बैठक या पार्टी के स्थापना दिवस जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रम में यहां आती थीं. हाल ही में कार्यालय की सफाई की गयी थी और वहां राहुल गांधी के बैठने के लिए प्रबंध किया गया. पूर्व में इंदिरा गांधी जैसी नेता वहां जनता दरबार में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात करती थीं.



loading...