मानहानि मामले में राहुल गांधी को पटना की अदालत से मिली जमानत, ‘मोदी’ पर की थी टिप्पणी

2019-07-06_Rahul.jpg

कांग्रेस नेता राहुल गांधी को मानहानि मामले में पटना कोर्ट ने जमानत दे दी है. राहुल के खिलाफ ये मामला बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गत अप्रैल में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) की अदालत में दर्ज कराया था.

राहुल ने पटना पहुंचने से पहले ट्वीट कर कहा था, "मैं पटना की दीवानी अदालत में दिन में दो बजे पेश होने वाला हूं. आरएसएस/भाजपा में मेरे राजनीतिक विरोधियों की ओर से मुझे परेशान करने और धमकाने के लिए दायर किया गया यह एक और मामला है. सत्यमेव जयते."

सुशील मोदी ने उक्त मामला राहुल गांधी द्वारा कर्नाटक के कोलार में एक चुनावी रैली में की गई टिप्पणी करने पर आपत्ति जताते हुए दायर किया था. जिसमें उन्होंने कहा था कि 'सभी चोरों के उपनाम मोदी क्यों हैं?' गांधी का इशारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बैंक धोखाधड़ी आरोपी नीरव मोदी और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की ओर था.

हाल ही में गुरुवार को राहुल गांधी को मानहानि के मामले में मुंबई की एक अदालत ने 15 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी थी. राहुल गांधी ने पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या मामले के लिए 'बीजेपी-आरएसएस की विचारधारा' को जिम्मेदार ठहराया था, जिसके बाद एक आरएसएस कार्यकर्ता ने उनके खिलाफ मानहानि का मामला दायर किया था.

सुनवाई के दौरान राहुल गांधी ने कहा गया कि वह निर्दोष हैं. सुनवाई के बाद राहुल गांधी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि "यह विचारधारा की लड़ाई है. मैं गरीबों के साथ खड़ा हूं. किसानों और मजदूरों के साथ खड़ा हूं. आक्रमण हो रहा है और मजा आ रहा है.



loading...