Radha Ashtami: आज मनाई जा रही है राधा अष्टमी, जानें पूजा विधि, महत्व और शुभ मुहूर्त

2019-09-06_RadhaAshtami.jpg

राधा अष्‍टमी भाद्रपद शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है. कहा जाता है कि इस दिन बरसाने में राधा जी का जन्म हुआ था. इसलिए इसे राधाष्टमी कहा जाता है.

इसे कृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 15 दिन बाद मनाया जाता है. कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी के दिन जिस तरह भगवान श्री कृष्‍ण के जन्‍म का जश्‍न मनाया जाता है, ठीक उसी प्रकार राधाष्‍टमी के दिन श्री राधाजी के जन्‍मोत्‍सव को हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है. आज देशभर में धूमधाम से मनाई जा रही है राधा अष्‍टमी.

महत्‍व-

इस दिन व्रत रखने वाली महिलाओं को सौभाग्‍य का वरदान प्राप्‍त होता है और उन्‍हें जीवन में कभी दुर्भाग्‍य का सामना नहीं करना पड़ता. उन्‍हें संतान सुख प्राप्‍त होता है और पति व संतान की आयु लंबी होती है. इसका व्रत रखने वाली महिलाओं के घर में धन की कभी कमी नहीं होती. 

पूजा का शुभ मुहूर्त-

1- अभिजीत मुहूर्त-11:54 am से 12:45 pm
2- अमृत काल-07:52 pm से 09:50 pm
3- विजय मूहूर्त-02:25 pm से 03:15 pm
4- गोधूलि मुहूर्त-06:20pm से 06:45 pm


 



loading...