पंजाब कैबिनेट की मीटिंग में लिए गए कई बड़े फैसले, कांटेक्ट पर नियुक्त शिक्षक और नर्सें होंगे रेगुलर

लोकसभा चुनाव: गुरदासपुर से बीजेपी उम्मीदवार सनी देओल ने चुनाव प्रचार बंद होने के बाद की जनसभा, EC ने भेजा नोटिस

लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस को झटका, वजोत सिंह सिद्धू के वोकल कॉर्ड हुए खराब, चुनाव-प्रचार से रहेंगे दूर

लोकसभा चुनाव: पंजाब में प्रचार के लिए पहुंचे अरविंद केजरीवाल को दिखाए गए काले झंडे

पंजाब के फतेहगढ़ साहिब में राहुल गांधी ने कहा- सैम पित्रोदा को अपने बयान पर शर्म आनी चाहिए, देश से माफी मांगे

पंजाब के तरनतारन में BSF ने मार गिराया पाकिस्तानी ड्रोन, डेढ़ घंटे तक रहा ब्लैक आउट

लोकसभा चुनाव: पंजाब में आम आदमी पार्टी को लगा बड़ा झटका, बीजेपी में शामिल हुए सांसद हरिंदर सिंह खालसा

2019-03-06_PunjabCabinet.jpg

पंजाब में शिक्षा समुदाय की लंबे अरसे से लंबित मांग को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता वाली पंजाब कैबिनेट ने बुधवार को पूर्ण वेतनमान के साथ 5,178 सरकारी शिक्षकों की सेवा 1 अक्टूबर 2019 से नियमित करने की मंजूरी दे दी है. कैबिनेट ने स्वास्थ्य विभाग की 650 नर्सो को भी परिवीक्षा नियमानुसार नियमित कर दिया. संविदा पर काम करने वाली ये नर्सें कुछ समय से मूल वेतन पर उन्हें नियमित करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रही थीं.

शिक्षकों को उनकी परिवीक्षा अवधि पूरी होने की तिथि से वरिष्ठता के मुताबिक रखा जाएगा. इन शिक्षकों को वर्तमान में साढ़े सात हजार रुपए का भुगतान किया जाता है. उन्हें जब तक पूर्ण वेतनमान नहीं मिलता तब तक के लिए उन्हें अब न्यूनतम ग्रेड पे 15,300 रुपए प्रति महीने मिलेगा.

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता के मुताबिक, कैबिनेट ने यह भी फैसला किया कि जिन शिक्षकों की भर्ती 2014, 2015 और 2016 के दौरान हुई थी, उन्हें उनकी दो साल की परिवीक्षा अवधि पूरी होने के बाद पूर्ण वेतनमान के साथ नियमित किया जाएगा. कैबिनेट ने परिवीक्षा अवधि तीन से घटाकर दो साल कर दी है.

शिक्षकों को उनकी परिवीक्षा अवधि पूरी होने की तिथि से वरिष्ठता के मुताबिक रखा जाएगा. इन शिक्षकों को वर्तमान में साढ़े सात हजार रुपए का भुगतान किया जाता है. उन्हें जब तक पूर्ण वेतनमान नहीं मिलता तब तक के लिए उन्हें अब न्यूनतम ग्रेड पे 15,300 रुपए प्रति महीने मिलेगा.



loading...