PNB घोटालाः गीतांजलि ग्रुप के वाइस प्रेसिडेंट विपुल चितालिया को CBI ने किया गिरफ्तार

2018-03-06_gitanjali-pnb-sam.jpg

 पीएनबी घोटाले में सीबीआई ने मंगलवार को गीतांजलि ग्रुप के वाइस प्रेसिडेंट विपुल चितालिया को हिरासत में लेकर पूछताछ की। उसे बैंकॉक से लौटते ही एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया गया। घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी देश से बाहर हैं। पहले करीब साढ़े बारह हजार करोड़ के फ्रॉड की बात सामने आई थी। बाद में बैंक ने कहा कि 1300 करोड़ का एक्स्ट्रा ट्रांजैक्शन भी हुआ। अब यह रकम बढ़कर 12,672 करोड़ हो गई है।

14 फरवरी को सीबीआई ने पहली एफआईआर नीरव मोदी, उसकी पत्नी अमी, भाई निशाल और नीरव के मामा मेहुल चौकसी के खिलाफ दायर की थी। मोदी, उसकी फैमिली और चौकसी जनवरी में ही देश छोड़कर चले गए थे।15 फरवरी को चौकसी के गीतांजलि ग्रुप के खिलाफ सीबीआई ने दूसरी एफआईआर दर्ज की। इसमें गीतांजलि द्वारा 4886.72 करोड़ के फ्रॉड की बात कही गई। अब तक इस मामले में सीबीआई ने देश में 198 लोकेशन पर मारे गए छापे में 6 हजार करोड़ की संपत्ति जब्त की है और 18 लोगों को गिरफ्तार किया है।

सोमवार को सीबीआई ने बैंक के जनरल मैनेजर (ट्रेजरी) एसके चंद से पूछताछ की। फायरस्टार के प्रेसिडेंट (फाइनेंस) विपुल अंबानी समेत 6 आरोपी सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में पेश किए गए। कोर्ट ने उन्हें 19 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। विपुल अंबानी रिलायंस ग्रुप के प्रमुख मुकेश अंबानी का चचेरा भाई है। सीबीआई ने 20 फरवरी को फायरस्टार के प्रेसिडेंट (फाइनेंस) विपुल अंबानी, सीनियर एग्जीक्यूटिव अर्जुन पाटिल, असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव कविता मनकिकर, नक्षत्र के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर कपिल खंडेलवाल, मैनेजर नितेन शाही, जनरल मैनेजर राजेश जिंदल को गिरफ्तार किया। 21 फरवरी को विपुल अंबानी समेत अन्य आरोपियों को मुंबई में स्पेशल सीबीआई कोर्ट में पेश किया गया। यहां से इन्हें 5 मार्च तक के लिए पुलिस कस्टडी में भेजा गया था।



loading...