लुधियाना सिटी सेंटर घोटाला मामले में सीएम अमरिंदर सिंह को बड़ी राहत, कोर्ट ने मुख्यमंत्री समेत 29 आरोपियों को किया बरी

पंजाब, पश्चिम बंगाल और केरल के सीएम बोले- हम अपने राज्यों में लागू नहीं करेंगे नागरिकता संशोधन बिल

करतारपुर कॉरिडोर खोलने के पीछे पकिस्तान का छिपा हुआ एजेंडा है: कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब के गुरदासपुर में पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 18 लोगों की मौत, कई के मलबे में दबे होने की आशंका

पंजाब: हाईकोर्ट ने धार्मिक स्थलों पर बिना इजाजत के लाउडस्पीकर बजाने पर लगाई रोक

पंजाब: सीएम अमरिंदर सिंह ने स्वीकार किया नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा, अंतिम फैसले के लिए गवर्नर को भेजा

नवजोत सिंह सिद्धू ने सीएम अमरिंदर सिंह को भेजा इस्तीफा, कैप्टन बोले- सोच विचार कर ही करेंगे फैसला

2019-11-27_AmrinderSingh.jpg

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को जिला अदालत ने बड़ी राहत दी है. कोर्ट ने बहुचर्चित लुधियाना सिटी सेंटर घोटाला मामले में सीएम अमरिंदर सिंह को बरी कर दिया. इसके साथ अन्य आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है.

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री के अलावा उनके बेटे रणइंदर सिंह, दामाद रमिंदर सिंह और अन्य 29 लोग इस मामले में आरोपित थे. बरी होने के बाद मीडिया से मुखातिब अमरिंदर सिंह ने कहा, 'मामला आखिरकार आज हमारे पक्ष में आ गया और हमारे खिलाफ आरोप खारिज कर दिए गए हैं.'

लुधियाना सिटी सेंटर मामला सितंबर 2006 में सामने आया था. जिसमें 1144 करोड़ रुपये घोटाला होने की बात सामने आई थी. उस वक्त कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार थी. इसके बाद 2007 में सत्ता परिवर्तन के बाद मामला दर्ज किया गया. पूर्व अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार के कार्यकाल में 23 मार्च 2007 को कैप्टन अमरिंदर सिंह और अन्य के खिलाफ घोटाला मामला दर्ज हुआ. दिसंबर 2007 में 130 पेज की चार्जशीट दाखिल की गई थी. इस मामले में 36 आरोपियों में से चार की मृत्यु हो चुकी है. लंबी सुनवाई के बाद आखिरकार कोर्ट ने अमरिंदर सिंह समेत अन्य आरोपियों को बरी कर दिया.
 



loading...