गुजरात: नर्मदा तट पर बोले पीएम मोदी- सरदार साहब के एक भारत, श्रेष्ठ भारत सपने को आज देश साकार होता देख रहा है

2019-09-17_Modi.jpg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 69वां जन्मदिन है. गुजरात में मां नर्मदा के किनारे केवडिया में एक जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज के दिन मां नर्मदा के दर्शन होना बड़ी बात है. उन्होंने कहा कि प्रकृति के साथ रहते हुए भी विकास किया जा सकता है. 

उन्होंने कहा, 'मैं समझता हूं कि केवड़िया में विकास, प्रकृति और पर्यटन की एक ऐसी त्रिवेणी बह रही है, जो सभी के लिए प्रेरणा है. एक तरफ सरदार सरोवर बांध है, बिजली उत्पादन के यंत्र हैं तो दूसरी तरफ एकता नर्सरी, बटर-फ्लाई गार्डन जैसी इको-टूरिज्म से जुड़ी बहुत ही सुंदर व्यवस्थाएं हैं. इन सबके बीच सरदार पटेल जी की भव्य प्रतिमा जैसे हमें आशीर्वाद देती नजर आती है.'

पीएम मोदी ने कहा, 'आज ही निर्माण और सृजन के देवता विश्वकर्मा जी की जयंती भी है. नए भारत के निर्माण के जिस संकल्प को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं, उसमें भगवान विश्वकर्मा जैसी सृजनशीलता और बड़े लक्ष्यों को प्राप्त करने की इच्छाशक्ति बहुत आवश्यक है. आज का ये अवसर बहुत भावनात्मक भी है. सरदार पटेल ने जो सपना देखा था, वो दशकों बाद पूरा हो रहा है और वो भी सरदार साहेब की भव्य प्रतिमा की आंखों के सामने हमने पहली बार सरदार सरोवर बांध को पूरा भरा हुआ देखा है. एक समय था जब 122 मीटर के लक्ष्य तक पहुंचना ही बड़ी बात थी. लेकिन 5 वर्ष के भीतर 138 मीटर तक सरदार सरोवर का भर जाना, अद्भुत और अविस्मरणीय है.'

उन्होंने कहा कि केवड़िया में आज जितना उत्साह है, उतना ही जोश पूरे गुजरात में है. आज तालों, तालाबों, झीलों, नदियों की साफ-सफाई का काम किया जा रहा है. आने वाले दिनों में बड़े स्तर पर वृक्षारोपण का भी कार्यक्रम है गुजरात में हो रहे सफल प्रयोगों को हमें पूरे देश में आगे बढ़ाना है.

पीएम मोदी ने कहा, गुजरात के गांव-गांव में जो इस प्रकार के अभियान से दशकों से जुड़े हैं, ऐसे साथियों से मैं आग्रह करुंगा कि वो पूरे देश में अपने अनुभवों को साझा करें आज कच्छ और सौराष्ट्र के उन क्षेत्रों में भी मां नर्मदा की कृपा हो रही है, जहां कभी कई-कई दिनों तक पानी नहीं पहुंच पाता था लेकिन गुजरात के लोगों ने हिम्मत नहीं हारी और आज सिंचाई की योजनाओं का एक व्यापक नेटवर्क गुजरात में खड़ा हो गया है. बीते 17-18 सालों में लगभग दोगुनी जमीन को सिंचाई के दायरे में लाया गया है.
 



loading...