‘परीक्षा पे चर्चा 2.0’: पीएम मोदी ने छात्रों को दिए सफलता के मन्त्र, कहा- मार्क्स के पीछे नहीं नॉलेज के पीछे दौड़ें

2019-01-29_ParikshPeCharcha.jpg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (29 जनवरी) इस साल होने वाली बोर्ड परीक्षाओं से पहले छात्र-छात्राओं को तनाव से मुक्‍त रहने के टिप्‍स देने के लिए उनसे ‘परीक्षा पे चर्चा 2.0’ कर रहे हैं. पीएम मोदी ने इस दौरान कहा 'मेरे लिए ये कार्यक्रम किसी को उपदेश देने के लिए नहीं है. मैं यहां आपके बीच खुद को अपने जैसा, आपके जैसा और आपकी स्थिति जैसा जीना चाहता हूं, जैसा आप जीते हैं.' यह कार्यक्रम दिल्‍ली के तालकटोरा स्‍टेडियम में हो रहा है. इस कार्यक्रम में छात्र-छात्राएं, अभिभावक और शिक्षक भी शामिल हो रहे हैं.

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा 'हर माता-पिता को अपने बच्‍चों को प्रोत्‍साहित करना चाहिए. परीक्षा का महत्‍व तो है, लेकिन यह जीवन की परीक्षा नहीं है.' उन्‍होंने कहा कि अगर हम अपने आपको कसौटी के तराजू पर झौकेंगे नहीं तो जिंदगी में ठहराव आ जाएगा. ज़िन्दगी का मतलब ही होता है गति, जिंदगी का मतलब ही होता है सपने. प्रधानमंत्री ने कहा 'जब मन में अपनेपन का भाव पैदा हो जाता है तो फिर शरीर में ऊर्जा अपने आप आती है और थकान कभी घर का दरवाजा नहीं देखती है. मेरे लिए भी देश के सवा सौ करोड़ देशवासी मेरा परिवार हैं.'

उन्‍होंने कहा 'अभिभावकों की महत्‍वाकांक्षाएं होती हैं, लेकिन बच्‍चों पर दबाव बनाने से स्थिति बदल जाती है. लेकिन बच्‍चों की क्षमता को पहचानने की कोशिश करें. बच्‍चों पर दबाव ना डालें.'  एक अभिभावक ने सवाल कि बच्‍चा मोबाइल गेम खेलता है, इस पर पीएम मोदी ने कहा कि टेक्नोलॉजी का उपयोग हमारे विस्तार के लिए, हमारे सामर्थ्य में बढ़ोतरी के लिए होना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने बच्‍चों से कहा कि आप अपने रिकॉर्ड से ‘कॉम्पटीशन’ कीजिए और हमेशा अपने रिकॉर्ड ब्रेक कीजिए. इससे आप कभी निराश नहीं होंगे और तनाव में नहीं रहेंगे. मां-बाप और शिक्षकों को बच्चों की तुलना नहीं करना चाहिए, इससे बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. हमें हमेशा बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए.



loading...