ताज़ा खबर

अखिलेश-मायावती आज करेंगे साझा प्रेस कांफ्रेंस, गठबंधन को लेकर कर सकते हैं ऐलान, पोस्टरों से ढका लखनऊ

लोकसभा चुनाव के लिए BSP ने जारी की 11 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, गौतमबुद्ध नगर से लड़ेंगे सतबीर कुमार

गंगा यात्रा का तीसरा दिन- आज पीएम मोदी के गढ़ वाराणसी में चुनाव-प्रचार करेंगी प्रियंका वाड्रा

लोकसभा चुनाव: शिवपाल सिंह यादव ने 31 उम्मीदवारों के नाम किए घोषित, फिरोजाबाद सीट पर भतीजे अक्षय यादव को खुद देंगे चुनौती

लोकसभा चुनाव: RLD ने यूपी की 3 सीटों पर घोषित किए अपने उम्मीदवार, मुज़फ्फरनगर से अजित सिंह तो बागपत से जयंत बने प्रत्याशी

यूपी में बीजेपी सरकार के 2 साल पूरे होने पर बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, राज्य की बदहाल तस्वीर को बदलने में हम कामयाब हुए

प्रियंका वाड्रा की गंगा यात्रा का दूसरा दिन, कहा- यूपी सरकार का रिपोर्ट कार्ड अच्छा, लेकिन जमीन पर कुछ नहीं दिखता

2019-01-12_sp-bsp-alliance.jpg

लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां तैयारी में जुट गई है. समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती शनिवार दोपहर 12 बजे एक साझा प्रेस कांफ्रेंस करेंगे. माना जा रहा है इसमें लोकसभा चुनावों में महागठबंधन की सीटों को लेकर घोषणा हो सकती है. इसकी जानकारी शुक्रवार सुबह बसपा के महासचिव सतीश मिश्रा और सपा सचिव राजेंद्र चौधरी ने एक साझा बयान में दी. यह पत्रकार वार्ता शनिवार दोपहर लखनऊ के पांच सितारा होटल में आयोजित होनी है.

हाल ही में दोनों दलों के नेताओं ने दिल्ली में भेंट कर लोकसभा चुनावों में गठबंधन के स्वरूप पर चर्चा की थी. सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश में लोकसभा की 80 सीटों में से सपा और बसपा की योजना 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ने की है. इसके अलावा राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) को भी दो या तीन सीटें देने की चर्चा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सीट अमेठी और सोनिया गांधी की सीट रायबरेली पर गठबंधन अपने उम्मीदवार नहीं उतारेगा.

निषाद पार्टी को भी गठबंधन में शामिल किया जा सकता है. 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 80 सीटों में से भारतीय जनता पार्टी गठबंधन ने 73 सीटें जीती थीं और इस बार उसके नेता 73 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं. बसपा-सपा और रालोद ने साथ मिलकर उपचुनाव लड़ा था जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर सीट और उप मुख्यमंत्री की फूलपुर सीट से सपा प्रत्याशियों को जीत मिली थी. जबकि कैराना सीट पर रालोद प्रत्याशी ने भाजपा से यह सीट छीनी थी.

बसपा सुप्रीमो मायावती गुरुवार शाम दिल्ली से लखनऊ पहुंची. पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि वह 15 जनवरी को अपने जन्म दिन के दिन गठबंधन की साझा प्रेस कांफ्रेंस कर सकती है लेकिन अब जन्मदिन के तीन दिन पहले ही इस प्रेस कांफ्रेस का आयोजन किया जा रहा है.

अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि सपा और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मिलकर लोकसभा चुनाव में जीत का परचम लहराएंगे. उन्होंने कहा कि पिछले साल लोकसभा उप-चुनाव में हम साथ आए तो प्रदेश के मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री की सीट पर भाजपा चुनाव हार गई. इस बार भी हमारा गणित सटीक बैठेगा और भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ेगा. 



loading...