राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बड़ा बयान, कहा- पॉक्सो एक्ट के तहत रेप के दोषियों के लिए दया याचिका नहीं होनी चाहिए

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर मेसियस बोलसोनारो पहुंचे दिल्ली, 26 जनवरी परेड में होंगे मुख्य अतिथि

Nirbhaya Case: दोषियों के वकील ने पटियाला हाउस कोर्ट में दायर की एक और याचिका, तिहाड़ जेल प्रशासन पर लगाए ये गंभीर आरोप

सुप्रीम कोर्ट ने टाटा-मिस्त्री मामले में एनसीएलएटी के आदेश पर लगाई रोक

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता बच्चों से मिले पीएम मोदी, बोले- आपके कार्यों से मुझे प्रेरणा मिलती है

Nirbhaya Case: दोषियों के परिवारवालों को तिहाड़ जेल प्रशासन ने लिखा पत्र, 1 फरवरी सुबह 6 बजे फांसी पर लटका देंगे

Delhi Election 2020: चुनाव प्रचार ने पकड़ी रफ्तार, आज अमित शाह, जेपी नड्डा और केजरीवाल-सिसोदिया की रैलियां

2019-12-06_PresidentKovind.jpg

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महिला सुरक्षा को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि पॉक्सो एक्ट में सजायाफ्ता को माफी नहीं मिलनी चाहिए। ऐसे मामलों में दया याचिका का प्रावधान खत्म हो.

राष्ट्रपति ने राजस्थान के सिरोही में एक कार्यक्रम के दौरान कहा, 'महिला सुरक्षा एक गंभीर मसला है। पॉक्सो अधिनियम के तहत दुष्कर्म के दोषियों को दया याचिका दायर करने का अधिकार नहीं होना चाहिए। संसद को दया याचिकाओं की समीक्षा करनी चाहिए.'

राष्ट्रपति का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब हैदराबाद में पशु चिकित्सक के साथ हैवानियत करने वाले चार आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है। पुलिस आरोपियों को क्राइम सीन रीकंस्ट्रक्शन करने के लिए ले गई थी। जहां उन्होंने हथियार छीनकर भागने की कोशिश की। आत्मरक्षा में पुलिस ने उनपर गोलियां चलाईं। जिसमें उनकी मौत हो गई। इसे लेकर सभी लोगों ने खुशी जाहिर की है.

इस घटना ने 16 दिसंबर, 2012 में हुए निर्भया कांड की यादें ताजा कर दी। निर्भया के आरोपियों को अदालत ने मौत की सजा सुना दी है। इसी बीच निर्भया के चार आरोपियों में से एक आरोपी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की है.



loading...