लोकसभा चुनाव को लेकर एक्शन में चुनाव आयोग, पार्टियों को मतदान से 72 घंटे पहले जारी करना होगा घोषणापत्र

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज संसद के संयुक्त सत्र को करेंगे संबोधित, बताएंगे मोदी सरकार का एजेंडा

लोकसभा में रामदास आठवले ने कुछ इस तरफ से दिया भाषण कि पीएम मोदी समेत हर कोई अपनी हंसी रोक नहीं पाया

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जाकिर नाईक को 31 जुलाई तक कोर्ट में पेश होने का आदेश, वरना जारी होगा वारंट

ओम बिड़ला निर्विरोध लोकसभा अध्यक्ष चुने गए, हाथ पकड़कर कुर्सी तक ले गए पीएम मोदी

‘एक देश एक चुनाव’ पर पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, ममता-माया के बाद कांग्रेस ने भी शामिल होने से किया इनकार

मानसून की रफ्तार धीमी होने से बारिश में 44 फीसदी की कमी, 12 वर्ष में ऐसा पहली बार हुआ

2019-01-11_ElectionCommission.jpg

चुनाव आयोग द्वारा गठित कमेटी ने आदर्श आचार संहिता में संशोधन करने की सिफारिशें की है. इन सिफारिशों के मुताबिक पार्टियों को पहले चरण के मतदान समाप्ति के 72 घंटे पहले अपना चुनावी घोषणापत्र जारी करना होगा. 

कमेटी ने इलेक्शन साइलेंस यानी चुनावी प्रचार पर रोक का दायरा सोशल माडिया, इंटरनेट, केबल चैनल्स और प्रिंट मीडिया के ऑनलाइन संस्करणों तक बढ़ाने की बात कही है. साथ ही सोशल मीडिया एजेंसी को राजनीतिक प्रचार की चीजों को अन्य सामग्री से अलग करके पार्टी और उम्मीदवार के इन माध्यमों पर खर्च किए पैसे का हिसाब रखने को कहा गया है.

चुनाव आयोग ने इस 14 सदस्यों वाली कमेटी का गठन पिछले साल मीडिया के प्रसार को देखते हुए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के अनुच्छेद 126 की समीक्षा के लिए किया था.

गुरूवार को यह रिपोर्ट मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा और चुनाव आयुक्त अशोक लवासा को सौंप दी गई. इस कमेटी की अध्यक्षता उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने की है. कमेटी में आयोग के नौ अन्य सदस्यों के अलावा सूचना और प्रसारण मंत्रालय, कानून मंत्रालय, आईटी मंत्रालय, नेशनल ब्रॉडकास्ट एसोसिएशन और प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के एक-एक नामित सदस्य शामिल थे.

वर्तमान में घोषणापत्र जारी करने को लेकर कोई बंदिश नहीं है. 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने अपना घोषणापत्र पहले चरण के मतदान वाले दिन जारी किया था. उस वक्त इस घटना को कांग्रेस ने मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास बताकर आयोग से शिकायत भी की थी मगर घोषणापत्र को लेकर कोई कानून नहीं होने के कारण आयोग कोई कार्रवाई नहीं कर सका था.

लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के अनुच्छेद 126, इलेक्शन साइलेंस की बात कहता है जिसके मुताबिक चुनाव वाले क्षेत्र में मतदान से 48 घंटे पहले प्रचार पर रोक लगती है. कई बार एक जगह इलेक्शन साइलेंस होने के बावजूद दूसरी जगह पर प्रचार जारी रहता है. ऐसी परिस्थिति में इस रिपोर्ट में नेताओं को इंटरव्यू और प्रेसवार्ता से बचने की हिदायत दी गई है.



loading...