ओडिशा के जाजपुर में 10 कटे हाथ मिलने से मचा हडकंप, पुलिस के कहा- फायरिंग में मारे गए आदिवासियों के हो सकते हैं

Odisha: पटकुरा विधानसभा सीट पर मतदान जारी, बीजेपी उम्मीदवार बिजॉय महापात्रा ने डाला वोट

ओडिशा दौरे पर पहुंचे पीएम मोदी, अब तक मरने वालों की संख्या 34 हुई

ओडिशा में चक्रवाती तूफान ‘फेनी’ ने मचाया कहर, 3 लोगों की मौत, 175 से 200 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से चल रही हैं हवाएं

चक्रवाती तूफान ‘फेनी’ ने ओडिशा में दी दस्तक, राहत-बचाव कार्य में जुटी टीमें, 200 से अधिक ट्रेनें रदद्

Fani Cyclone: चक्रवाती तूफान ‘फेनी’ की तबाही से बचने के लिए इस तरह रहना होगा सतर्क, हाई अलर्ट पर सेना और NDRF

अगले कुछ घंटो में बेहद तीव्र होने वाला है चक्रवाती तूफान ‘फेनी’, मौसम विभाग ने इन राज्यों में जारी किया Yellow अलर्ट

2018-11-19_ChoppedHand.jpg

ओडिशा के जाजपुर जिले में 10 कटे हाथ मिलने से रविवार को तनाव फैल गया. इलाके में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिसबल तैनात करना पड़ा है. शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने बताया कि एक मेडिकल बॉक्स में मिले हाथ पुलिस फायरिंग में मारे गए आदिवासियों के हो सकते हैं, जिन्हें प्रिजर्व कर रखा गया था.

एसएसपी सीएस मीणा ने कहा कि कटे हाथ स्टील प्लांट के क्लब में प्रिजर्व कर रखे गए थे. शनिवार रात कुछ चोर खिड़की के रास्ते क्लब में दाखिल हुए. वे अपने साथ हाथों वाला मेडिकल बॉक्स भी ले गए. हालांकि, बाद में उन्होंने इसे कुछ दूर जाकर रास्ते में फेंक दिया.

आदिवासियों ने 12 साल पहले कलिंगा नगर इलाके में स्टील प्लांट के लिए जमीन अधिग्रहण के खिलाफ बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया था. इस दौरान जनवरी 2006 में पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई. पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी, जिसमें 13 आदिवासियों की मौत हो गई थी.

पुलिस के मुताबिक, फायरिंग में मारे गए पांच लोगों की पहचान नहीं हो पाई थी. पोस्टमॉर्टम के वक्त डॉक्टरों ने फिंगरप्रिंट्स से पहचान के लिए उनके हाथ काट लिए थे. कुछ साल बाद हाथ परिजन को सौंपे गए तो उन्होंने इन्हें लेने से इनकार कर दिया और डीएनए टेस्ट की मांग की. तब से हाथ क्लब में रखे थे.



loading...