जापान की सनकी नर्स: शिफ्ट में किसी की मौत न हो इसलिए जहरीला इंजेक्शन लगाकर 20 बुजुर्ग मरीजों को मौत के घाट उतारा

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगाई इमरजेंसी, मैक्सिको बोर्डर पर बनाई जाएगी दीवार

अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने पर अड़े डोनाल्ड ट्रंप, जल्द करेंगे आपातकाल की घोषणा

Pulwama Terror Attack: अमेरिका की पाक को चेतावनी, आतंकवाद को पनाह देना बंद करे, पाकिस्तान ने गंभीर चिंता का विषय बताया

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट का आदेश, ‘‘घृणा, चरमपंथ और आतंकवाद’’ फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे सरकार

डोनाल्ड ट्रंप ने 'स्टेट ऑफ यूनियन' में अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर दीवार बनाने का किया वादा, किम जोंग से फिर करेंगे मुलाकात

क्रिप्टोकरेंसी कंपनी के CEO की मौत से निवेशकों के 190 मिलियन डॉलर हुए लॉक, किसी को नहीं पता पासवर्ड

2018-07-12_japan.jpg

जापान में एक नर्स ने जहरीला इंजेक्शन लगाकर 20 बुजुर्ग मरीजों की हत्या कर दी. अपनी शिफ्ट के दौरान मरीजों की मौत को लेकर होने वाले सवाल-जवाब से बचने के लिए उसने ऐसा किया. उसका मानना था कि अगर किसी मरीज की मौत उसकी शिफ्ट के दौरान नहीं होगी तो उसे जिम्मेदार नहीं ठहराया जाएगा.
 
जापानी मीडिया के मुताबिक, योकोहामा के ओगुची अस्पताल में जुलाई से सितंबर 2016 के दौरान 48 लोगों की मौत हुई थी. वहीं, सितंबर 2016 में सोजो निशिकावा (88) और नोबुओ यामकी (88) की मौत के बाद पोस्टमॉर्टम के दौरान शरीर में एक ही तरह का केमिकल मिलने पर पुलिस से शिकायत की गई. इस मामले में पूछताछ के लिए अस्पताल की नर्स अयूमी कुबोकी (31) को हिरासत में लिया गया. उसने दोनों की हत्या कबूल की. साथ ही, पुलिस को बताया कि वह इस तरह 20 लोगों को मार चुकी है.

अयूमी ने पुलिस को बताया कि वह बुजुर्ग मरीजों की ड्रिप में बेंजलकोनियम क्लोराइड नामक जहरीला केमिकल मिला देती थी. इससे धीरे-धीरे उनकी मौत हो जाती थी. वह टाइमिंग इस तरह सेट करती थी कि मरीज की मौत उसकी शिफ्ट खत्म होने के बाद ही हो. निशिकावा और यामकी की मौत को डॉक्टरों ने प्राकृतिक ही माना था. हालांकि पोस्टमॉर्टम के दौरान दोनों के शरीर में केमिकल मिला. इसके अलावा 89 साल के एक अन्य बुजुर्ग और 78 साल की महिला के शरीर में भी यही केमिकल पाया गया. उनकी मौत भी सितंबर 2016 में ही हुई थी.

जांच के दौरान नर्सों की वर्दी चेक गई. इसके अलावा खाने-पीने के सामान की भी पड़ताल हुई. वहीं, ड्रिप पर सीरिंज लगाने के निशान भी परखे गए. इसके बाद नर्सों की शिफ्ट टाइमिंग जांची गई. शक के आधार पर पुलिस अयूमी तक पहुंची और उसे हिरासत में ले लिया. अयूमी 2015 से इस अस्पताल में काम कर रही थी.



loading...