ताज़ा खबर

पीएनबी घोटाला के आरोपी नीरव मोदी ने इस देश की नागरिकता के लिए आवेदन दिया था

अंबाला में जगुआर विमान के पायलट की सूझ-बूझ से बड़ा हादसा होने से टला, पक्षी टकराने से इंजन हो गया था बंद

नीति आयोग के CEO बने रहेंगे अमिताभ कांत, सरकार ने दिया 2 साल का सेवा विस्तार

G-20 समिट में हिस्सा लेने के लिए ओसाका पहुंचे पीएम मोदी, जापान के पीएम शिंजो आबे से लेकर इन नेताओं से करेंगे बातचीत

Rajya Sabha Live: पीएम मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- कांग्रेस हार को स्वीकार नहीं करती, विजय को पचा नहीं पाती

बालाकोट एयर स्ट्राइक की जिसने रची प्लानिंग, उसे मिली देश की सुरक्षा की अहम जिम्मेदारी

भारत की बड़ी कुटनीतिक जीत, UNSC में अस्थाई सदस्यता के समर्थन में एशिया-प्रशांत के सभी देश

2018-09-13_NiravModi.jpg

पीएनबी घोटाला सामने आने के करीब तीन महीने पहले हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने वनुआतु देश की नागरिकता हासिल करने की कोशिश की थी. लेकिन वहां की सरकार ने इनकार कर दिया था. 13 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले में नीरव और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं. मेहुल को एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने में कामयाबी मिल गई. नीरव किस देश में है? इसकी जानकारी नहीं है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, वनुआतु की नागरिकता हासिल करने के लिए नीरव ने नवंबर 2017 में 18 अधिकृत एजेंट्स में से एक के अकाउंट में 195,000 डॉलर (करीब 1.4 करोड़ रुपए) ट्रांसफर किए थे. वनुआतु की सरकार निवेश कार्यक्रम के तहत बाहर के लोगों को नागरिकता देती है.

वनुआतु सरकार ने नागरिकता देने के पहले नीरव मोदी की खुफिया जांच की. इसमें नीरव के खिलाफ कई प्रतिकूल रिपोर्ट सामने आईं. इसके बाद सरकार ने मोदी के आवेदन को खारिज कर दिया. नीरव और चौकसी इस साल जनवरी के पहले हफ्ते में देश छोड़कर भाग गए थे. नीरव ने जून में यूके में शरण के लिए आवेदन दिया था. इससे पहले, उसके सिंगापुर और अमेरिका में होने की खबरें आई थीं.

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी पर आरोप है कि दोनों ने बैंक अधिकारियों की मदद से 2011 से 2018 के बीच फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए बड़ी रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर कराई. इस मामले में पहली एफआईआर इस साल जनवरी में दर्ज की गई थी.



loading...