पीएनबी घोटाला के आरोपी नीरव मोदी ने इस देश की नागरिकता के लिए आवेदन दिया था

CBI विवाद: CVC की जांच में आलोक वर्मा को क्लीन चिट नहीं, 20 नवंबर को फिर होगी सुनवाई

गणतंत्र दिवस पर मुख्‍य अतिथि हो सकते हैं दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्रपति सीरिज रमाफोसा

शाहिद अफरीदी के पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे, कश्मीर क्या संभालेंगे वाले बयान पर राजनाथ सिंह ने कही ये बात

NSG ने चिट्ठी लिखकर बताया, लाल कृष्ण आडवाणी, गुलाम नबी आजाद और फारूक अब्दुल्ला की सुरक्षा में हुई लापरवाही

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा- भगवान राम भी नहीं चाहेंगे कि किसी विवादास्‍पद स्‍थल पर मंदिर बने

ISRO को अंतरिक्ष में मिली बड़ी सफलता, श्रीहरिकोटा से लांच किया संचार उपग्रह जीसैट-29

2018-09-13_NiravModi.jpg

पीएनबी घोटाला सामने आने के करीब तीन महीने पहले हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने वनुआतु देश की नागरिकता हासिल करने की कोशिश की थी. लेकिन वहां की सरकार ने इनकार कर दिया था. 13 हजार करोड़ के पीएनबी घोटाले में नीरव और मेहुल चौकसी मुख्य आरोपी हैं. मेहुल को एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने में कामयाबी मिल गई. नीरव किस देश में है? इसकी जानकारी नहीं है.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, वनुआतु की नागरिकता हासिल करने के लिए नीरव ने नवंबर 2017 में 18 अधिकृत एजेंट्स में से एक के अकाउंट में 195,000 डॉलर (करीब 1.4 करोड़ रुपए) ट्रांसफर किए थे. वनुआतु की सरकार निवेश कार्यक्रम के तहत बाहर के लोगों को नागरिकता देती है.

वनुआतु सरकार ने नागरिकता देने के पहले नीरव मोदी की खुफिया जांच की. इसमें नीरव के खिलाफ कई प्रतिकूल रिपोर्ट सामने आईं. इसके बाद सरकार ने मोदी के आवेदन को खारिज कर दिया. नीरव और चौकसी इस साल जनवरी के पहले हफ्ते में देश छोड़कर भाग गए थे. नीरव ने जून में यूके में शरण के लिए आवेदन दिया था. इससे पहले, उसके सिंगापुर और अमेरिका में होने की खबरें आई थीं.

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी पर आरोप है कि दोनों ने बैंक अधिकारियों की मदद से 2011 से 2018 के बीच फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए बड़ी रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर कराई. इस मामले में पहली एफआईआर इस साल जनवरी में दर्ज की गई थी.



loading...