पीएम मोदी की रैली में पंडाल गिरने से 24 जख्मी, घायलों को देखने अस्पताल पहुंचे मोदी

वाजपेयी जी को स्मृथति स्थल पर दी जा रही है अंतिम विदाई, PM मोदी, राष्ट्रपति और रक्षा मंत्री ने श्रद्धांजलि दी

वह मेरी आंखों के सामने हैं बिल्कुल स्थिर, जो हाथ मेरी पीठ पर धौल जमाते थे, जो स्नेह से मुझे बाहों में भर लेते थे, वे स्थिर हैं: PM मोदी का ब्लॉग

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शाम 5 बजकर 5 मिनट पर AIIMS में अंतिम सांस ली

पीएम मोदी ने AIIMS जाकर अटल बिहारी वाजपेयी की हालात जानी, थोड़ी देर में तीसरा मेडिकल बुलेटिन होगा जारी

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की तबियत बेहद नाजुक, PM समेत कई नेता पहुंचे

Google करेगा PM मोदी के स्वतंत्रता दिवस भाषण का लाइव प्रसारण, दूरदर्शन ने भी की है ये खास तैयारी

2018-07-16_pmmodiralley.jpeg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पश्चिम बंगाल में मिदनापुर के जिला अस्पताल में उन समर्थकों से मिलने पहुंचे, जो प्रधानमंत्री की किसान रैली में पंडाल गिरने से 24 घायल हो गए. घायलों को प्राथमिक चिकित्सा मुहैया कराई जा रही है. कई घायलों की हड्डी टूटने की भी आशंका है. हालांकि यह मेडिकल जांच के बाद ही साफ हो पाएगा.

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घायलों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना की है. ममता ने ट्वीट किया, 'हम मिदनापुर की रैली में सभी घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं. राज्य सरकार उन्हें हर तरह की चिकित्सा सेवा मुहैया कराएगी. पश्चिम मिदनापुर के कॉलेज ग्राउंड में आयोजित किसान रैली के दौरान पंडाल का एक हिस्सा गिर गया, जिसमें कम से कम 24 लोग घायल हो गए. घायलों को बाद में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. यह हादसा मोदी के भाषण के दौरान हुआ. हालांकि भाषण के दौरान पीएम ने कई लोगों को पंडाल पर चढ़ने के लिए डांटा और नीचे उतरने को कहा.

जिला अस्पताल में घायलों से मिलने पहुंचे मोदी ने कहा कि फिक्र मत कीजिए आप ठीक हो जाएंगे. आपको बता दें कि पंडाल गिरते ही रैली में अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया. घायलों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया और इलाज शुरू किया गया. लेकिन सवाल है कि प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में इस तरह की ढुलमुल तैयारी क्यों की गई. सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध क्यों नहीं किए गए?
रैली में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि रैली स्थल पर चिकित्सा के पुख्ता बंदोबस्त नहीं थे. प्रधानमंत्री के काफिले में तैनात एम्बुलेंस से ही घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया गया.

गौरतलब है कि इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने किसान रैली में तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ ही वामपंथी दलों पर भी निशाना. मिदनापुर में एक किसान रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि वामपंथी शासन ने पश्चिम बंगाल को जिस हाल में पहुंचाया, आज बंगाल की हालात उससे भी बदतर होती जा रही है.



loading...