बीके हरिप्रसाद पर पीएम मोदी की टिप्पणी राज्यसभा की कार्यवाही से हटाई गई, कांग्रेस ने जताई थी आपत्ति

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की मुश्किलें बढ़ी, ब्रिटेन की अदालत ने 6 महंगी कारें बेचने का दिया आदेश

यूपी और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी का 93 साल की उम्र में निधन, दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल में ली आखिरी सांस

UIDAI ने 90 करोड़ लोगों को दी राहत, नहीं बंद होंगे आधार से जारी हुए मोबाइल नंबर

#MeToo के लपेटे में आए एमजे अकबर कोर्ट में नहीं हुए हाजिर, 31 अक्टूबर को दर्ज करायेंगे बयान

भारतीय नौसेना को मिली नई ताकत, अब गहरे पानी में भी कर सकेगी बचाव कार्य

पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 1 साल में 1 हेक्टेयर जमीन का भी नहीं हुआ अधिग्रहण

2018-08-10_PMModiBKSingh.jpeg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा उपसभापति की चुनाव प्रक्रिया के बाद अपने भाषण में कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को लेकर टिप्पणी की थी. कांग्रेस ने इस पर आपत्ति जताई थी. इसके बाद मोदी के बयान के इस हिस्से को आपत्तिजनक मानते हुए सदन की कार्यवाही से विलोपित कर दिया गया. संसद में ऐसे मौके कम ही आए जब किसी प्रधानमंत्री के भाषण के हिस्से को सदन की कार्यवाही से हटाया गया. 

एनडीए उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह को जीत की बधाई देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था कि यह दो हरि के बीच में चुनाव था. अब सदन पर ‘हरि-कृपा’ बनी रहेगी. मोदी ने इसके बाद बीके हरिप्रसाद के नाम का जिक्र कर एक बयान दिया था. उपसभापति चुनाव में हरिवंश के समर्थन में 125 और हरिप्रसाद के समर्थन में 105 वोट डाले गए. यूपीए के पास 47 राज्यसभा सदस्य हैं. उसे 62 और सांसदों के समर्थन के साथ कुल 109 की संख्या जुटा लेने का भरोसा था.



loading...