बीके हरिप्रसाद पर पीएम मोदी की टिप्पणी राज्यसभा की कार्यवाही से हटाई गई, कांग्रेस ने जताई थी आपत्ति

लोकसभा में मोदी सरकार ने पेश किया तीन तलाक बिल, हंगामे की वजह से नहीं चल सका प्रश्न काल

1984 सिख दंगा मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दोषी ठहराया, उम्रकैद की सजा

राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के CM का शपथ ग्रहण आज, अखिलेश-मायावती ने बनाई दूरी

JDU के नेता प्रशांत किशोर ने कहा- राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में हार बीजेपी के लिए खतरे की घंटी नहीं

राफेल डील पर SC के फैसले के बाद BJP हमलवार- अरुण जेटली ने कहा- झूठ बोलने वालों की हुई हार

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अमित शाह ने पूछा- जो चोर होते है वही चौकीदार से डरते हैं

2018-08-10_PMModiBKSingh.jpeg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा उपसभापति की चुनाव प्रक्रिया के बाद अपने भाषण में कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को लेकर टिप्पणी की थी. कांग्रेस ने इस पर आपत्ति जताई थी. इसके बाद मोदी के बयान के इस हिस्से को आपत्तिजनक मानते हुए सदन की कार्यवाही से विलोपित कर दिया गया. संसद में ऐसे मौके कम ही आए जब किसी प्रधानमंत्री के भाषण के हिस्से को सदन की कार्यवाही से हटाया गया. 

एनडीए उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह को जीत की बधाई देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था कि यह दो हरि के बीच में चुनाव था. अब सदन पर ‘हरि-कृपा’ बनी रहेगी. मोदी ने इसके बाद बीके हरिप्रसाद के नाम का जिक्र कर एक बयान दिया था. उपसभापति चुनाव में हरिवंश के समर्थन में 125 और हरिप्रसाद के समर्थन में 105 वोट डाले गए. यूपीए के पास 47 राज्यसभा सदस्य हैं. उसे 62 और सांसदों के समर्थन के साथ कुल 109 की संख्या जुटा लेने का भरोसा था.



loading...