पीएम मोदी SCO बैठक में हिस्सा लेने के लिए चीन रवाना, पूर्ण सदस्य के रूप में पहली बार शिरकत करेगा भारत

राहुल गांधी ने 2019 चुनाव से पहले पार्टी में किये बड़े बदलाव, अहमद पटेल को बनाया कोषाध्यक्ष

सरकार ने वॉट्सऐप से कहा- फेक न्यूज और अश्लील मैसेज रोकने के उपाय तलाशें, नहीं तो जुर्माना लगेगा

तेज बहादुर के विडियो से जवानों में हो सकता था विद्रोह, इसलिए नौकरी से डिसमिस किया: सरकार

वाजपेयी जी की याद में प्रार्थना सभा में लाल कृष्ण आडवाणी ने कहा- कभी नहीं सोचा था कि ऐसी सभा को संबोधित करना पड़ेगा जिसमें अटल जी अनुपस्थित रहेंगे

कांग्रेस नेता शशि थरूर को कोर्ट ने जिनेवा जाने की दी मंजूरी, सुनंदा पुष्कर मामले में हैं जमानत पर

PNB Scam: लंदन में छुपा बैठा है नीरव मोदी, सीबीआई ने दी प्रत्यर्पण के लिए अर्जी

2018-06-09_modi.jpg

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 18वें शंघाई सहयोग सगंठन (SCO) शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए शनिवार सुबह चीन के किंगडाओ के लिए रवाना हो गए. SCO बैठक का यह पहला मौका है जब भारत पूर्ण सदस्य के रूप में हिस्सा लेने वाला है. भारत 2005 से ही SCO में पर्यवेक्षक के तौर पर शामिल होता रहा है, लेकिन साल 2017 में उसे पूर्ण सदस्य का दर्जा मिल गया है. भारत के अलावा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी इस कार्यक्रम में पूर्ण सदस्य के रूप में हिस्सा लेने वाला है.

चीन यात्रा पर रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने कहा SCO के साथ भारत के सम्पर्क की एक नई शुरूआत होगी. उन्होंने कहा कि SCO का पूर्ण सदस्य बनने के बाद गत एक वर्ष में इन क्षेत्रों में संगठन और उसके सदस्यों के साथ हमारा संवाद खासा बढ़ा है. उन्होंने कहा, मानना है कि चिंगदाओ शिखर सम्मेलन SCO एजेंडा को और समृद्ध करेगा.

पीएम मोदी ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, एक पूर्ण सदस्य के तौर पर परिषद की हमारी पहली बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने को लेकर रोमांचित हूं. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, 9 और 10 जून को SCO शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मैं चीन के चिंगदाओ में रहूंगा. एक पूर्ण सदस्य के तौर पर भारत के लिए यह पहला SCO शिखर सम्मेलन होगा.

SCO शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के अलावा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ द्विपक्षीय बैठक भी करेंगे. 42 दिनों में पीएम मोदी और शी जिनपिंग की यह दूसरी मुलाकात होगी. 



loading...