ताज़ा खबर

Union Budget 2018: बजट में जेटली ने दिया तोहफा, दो रुपए प्रति लीटर सस्‍ता हुआ पेट्रोल-डीजल

2018-02-01_Petrol-Diesel-To-Get-Cheaper.jpg

आम बजट 2018-19 की घोषणा करते हुए वित्तमंत्री ने पेट्रोल डीजल पर उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है. सरकार ने इस बजट में पेट्रोल डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटाने का फैसला किया है, जिससे पेट्रोल-डीजल कीमतों में 2 रुपए तक की कमी आई है. सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 2 रुपये घटकर 4.48 रुपये प्रति लीटर कर दी है. वहीं, डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 2 रुपये घटकर 6.33 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है.

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल महंगा होने और भारतीय रुपये में आई कमजोरी के चलते पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं. पिछले साल 16 जून से हर रोज पेट्रोल डीजल के दामों में बदलाव होता है. ये कीमतें अंतर्राष्ट्रीय बाजार के आधार पर तय होती हैं. दिल्ली में जनवरी महीने में ही पेट्रोल के दाम 2.95 तक बढ़े हैं. यहां 31 जनवरी को पेट्रोल का दम 72.92 रुपए प्रति लीटर रहा.

बता दें पेट्रोलियम मंत्रालय ने भी बजट से पहले तेजी से बढ़ती हुई पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी लाने के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली से पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी घटाने का सुझाव दिया था. हांलाकि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के भी कयास लगाए जा रहे थे लेकिन फिलहाल ये संभव नहीं हो सका.

मौजूदा टैक्स स्लैब
0-2.5 लाख रुपए तक कोई टैक्स नहीं
2.5-5 लाख रुपए तक 5% टैक्स
5-10 लाख रुपए तक 20% टैक्स
10 लाख रुपए से ऊपर 30% टैक्स

वरिष्ठ नागरिकों के लिए जीवन बीमा निगम द्वारा संचालित ‘प्रधानमंत्री वय वंदन योजना’ में निवेश करने की सीमा 7.5 लाख रुपये से दोगुना बढ़ाकर 15 लाख रुपये की गई है.

सरकार ने 250 करोड़ टर्नओवर वाली कंपनियों को  कॉर्पोरेट टैक्स में भारी छूट दी गई है. 250 करोड़ रुपए तक टर्नओवर वाली कंपनियों को 25 फीसदी कॉरपोरेट टैक्स देना है.  इससे पहले 50 करोड़ सालाना टर्नओवर वाली कंपनियों को 25 प्रतिशत टैक्स देना होता था. इससे स्टार्टअप इंडिया’ और ‘मेक इन इंडिया’ जैसी योजनाओं को फायदा मिलेगा.

बजट के दौरान वित्त मंत्री ने कहा राष्ट्रपति का वेतन बढ़ाकर पांच लाख रुपये, उपराष्ट्रपति का चार लाख रुपये और राज्यों के राज्यपालों का वेतन बढ़ाकर 3.5 लाख रुपये किया जाएगा. इतना ही नहीं वित्त मंत्री ने कहा कि सांसदों के वेतन, भत्ते हर पांच साल में बढ़ाए जाएंगे. इसे तय करने के लिए नियमों में बदलाव होगा.



loading...