ताज़ा खबर

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों में लग रही आग से कब मिलेगी राहत, दिल्ली में 82.26 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल

2018-10-09_petrol-diesel-price-today.jpg

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला लगातार चौथे दिन भी जारी है. मंगलवार को भी पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ा दी गईं. दिल्ली में सोमवार की तुलना में मंगलवार को पेट्रोल 23 पैसे महंगा यानी 82.26 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है. वहीं डीजल के दाम में भी 29 पैसे की बढ़ोतरी देखने को मिली और यह 74.11 रुपए प्रति लीटर की दर से मिल रहा है. वहीं मुंबई में पेट्रोल 87.73 और डीजल 77.68 रुपए प्रतिलीटर मिल रहा है. यहां भी पेट्रोल में 23 पैसे तो डीजल में 31 पैसे का उछाल देखने को मिला. दिल्ली में 4 दिनों में पेट्रोल 76 पैसे वहीं डीजल 1.16 रुपए तक महंगा हुआ है.

सोमवार को भी पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा दिए गए थे. दिल्ली में सोमवार को पेट्रोल 82.03 रुपए प्रति लीटर बिका. इसमें 21 पैसे की बढ़ोतरी की गई थी. वहीं डीजल 29 पैसे महंगा होकर 73.82 रुपए प्रति लीटर बिका. मुंबई में पेट्रोल 21 पैसे महंगा होकर 87.50 रुपए प्रति लीटर जबकि डीजल में 31 पैसे की बढ़ोतरी के बाद 77.37 रुपए प्रति लीटर बिका.

इससे पहले रविवार को लगातार दूसरे दिन पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ा दिए गए थे. पेट्रोल की कीमत में 14 पैसे की बढ़ोतरी देखने को मिली थी. दिल्ली में पेट्रोल 81.82 रुपए प्रति लीटर बिका वहीं डीजल के दाम में 29 पैसे की बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में डीजल 73.53 रुपए प्रति लीटर बिका. वहीं मुंबई में पेट्रोल 14 पैसे महंगा होकर 87.29 रुपए प्रति लीटर बिका, जबकि डीजल के दाम 31 पैसे बढ़ा दिए गए. मुंबई में डीजल 77.06 रुपए प्रति लीटर रहा.

शनिवार को भी पेट्रोल-डीजल की कीमत में उछाल देखने को मिला था. शनिवार को दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 18 पैसे की वृद्धि हुई और यह 81.68 रुपये लीटर बिका. वहीं डीजल के दाम में 29 पैसे की वृद्धि हुई और यह 73.24 रुपये प्रति लीटर बिका. मुंबई में पेट्रोल 18 पैसे महंगा हुआ था और यह 87.15 रुपये प्रति लीटर बिका. हालांकि डीजल के दाम में 70 पैसे की गिरावट आई थी और यह 76.75 रुपये प्रति लीटर बिका.

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान का कहना है कि भले ही सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को पेट्रोल और डीजल पर एक रुपये की सब्सिडी देने को कहा है, लेकिन पेट्रोलियम ईंधन की कीमत नियंत्रण से मुक्त रखने के निर्णय से पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता. धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के भाव चार साल के उच्चतम स्तर 85 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंचना एक चुनौती है. इसके कारण ईंधन के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. उत्पाद शुल्क में कटौती और ईंधन पर सार्वजनिक उपक्रमों द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी के बावजूद दाम बढ़ रहे हैं.
 



loading...