पेशावर के ‘नन्हे प्रोफ़ेसर’ ने मचाया इन्टरनेट पर धमाल, सुनने वालों की संख्या पहुंची लाखों में, देखें विडियो

शरणार्थी बच्चों से मिलने के बाद ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप ने पहनी ऐसी जैकेट देखकर मचा बवाल, ट्रम्प को देनी पड़ी सफाई

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न बनीं माँ, ऐसा करने वाली दूसरी महिला, इससे पहले बेनजीर ने बेटी को जन्म दिया था

डोनाल्ड ट्रंप ने बदला फैसला, अमेरिका में अवैध प्रवासियों के बच्चे अब परिवार से नहीं बिछड़ेंगे

ट्रंप से मुलाकात के हफ्तेभर बाद चीन पहुंचे किम, 4 महीने में तीसरा दौरा, जिनपिंग से करेंगे मुलाकात

चीनी राजदूत ने कहा- भारत-पाकिस्तान और चीन मिलकर रच सकते हैं इतिहास, हम एक और डोकलाम नहीं चाहते

जापान के ओसाका शहर में 6.1 तीव्रता का भूकंप, 3 मरे, 50 घायल, बुलेट ट्रेन भी रोकी गई

2018-06-08_paksensation.jpg

पाकिस्तान के पेशावर में 11 साल के नन्हे से बच्चे ने तहलका मचा दिया है. पाकिस्तानी यूनिवर्सिटीज के हजारों लड़के इस बच्चे को सुनते हैं. ऐसा क्या है इस बच्चे में? सुनने वालों की माने एक तो बोलने का तरीका और दूसरा उनकी गज़ब की स्माइल. 

दक्षिण पेशावर की यूनिवर्सिटी ऑफ स्पोकेशन इंग्लिश में उनके बोलने का हाव-भाव और आत्मविश्वास लोगों को अपनी ओर खींचता है और बड़े भी उन्हें सुनने आते हैं.

प्रोफेशनल तरीके से सूटेड-बूटेड इस मोटिवेशनल स्पीकर को सुनने वालों की गिनती बदस्तूर बढ़ रही है. USECS के डायरेक्टर आमेर सोहेल ने कहा, फैकल्टी के लोग उन्हें ‘नन्हा प्रोफेसर’ के तौर पर देखते हैं. सफी पहले एक पारंपरिक स्कूल में पढ़ते थे. लेकिन वह यहां इंग्लिश की क्लास भी लेते थे. वहां वह असाधारण आत्मविश्वास के कारण तेजी से लोगों की नजह में आ गए. जल्द ही वह स्कूल छोड़ USECS से पूरी तरह जुड़ गए और अपने प्रेरक की शुरुआत की. यूनिवर्सिटी में बड़े पैमाने पर काम करने वाले स्टूडेंट हैं. ऐसे में सफी उन्हें हर हफ्ते एक मोटिवेशनल स्पीच देते हैं.

सफी के इंग्लिश टीचर कहते हैं, लोग उन्हें इसलिए प्यार करते हैं क्योंकि वह बात करते हैं, जो कि काफी आकर्षक होता है. वह पाकिस्तान की एक पॉजिटिव छवि को भी प्रदर्शित करते हैं, जोकि उनके श्रोताओं को आसानी से समझ में आ जाता है. 

सफी के पिता चाहते हैं कि वो बड़ा होकर एक कामयाब स्पेशल टीचर बनें. बेटे के बारे में पिता कहते हैं सफी असाधारण है. इसीलिए मैंने उसके लिए एक स्पेशल टीचर नियुक्त किया था. उसे योग्यता और ज्ञान भगवान से मिला है.

इसी कारण यूनिवर्सिटी के लोगों ने उन्हें नन्हा प्रोफ़ेसर केहकर पुकारना शुरू कर दिया.



loading...