पाकिस्तान को अमेरिका की चेतावनी, आतंकवाद का 'साथ' देने वाले हमारे दोस्त नहीं हो सकते

संयुक्त राष्ट्र संघ के पूर्व प्रमुख और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कोफी अन्नान का निधन

इमरान खान ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर ली शपथ, भारत से पहुंचे सिद्धू

इमरान खान आज लेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ, पहले दिन से कर्ज की दरकार

वाजपेयी के निधन पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा- उनके योगदान को हमेशा याद रखा जायेगा

नॉर्वे के मंत्री को गर्लफ्रेंड के साथ घुमाना पड़ा भारी, विवाद होने पर इस्तीफ़ा देना पड़ा

अमेरिका ने दूसरे देशों के छात्रों के लिए पॉलिसी सख्त की, नियम तोड़ने के अगले दिन से गैरकानूनी माना जाएगा प्रवास

2018-02-02_rex-tillerson.jpg

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा सहायता पर रोक लगाकर यह संदेश देने की कोशिश की कि सहायता पाने वाले आतंकवाद को समर्थन देकर या उसे अनदेखा करके अमेरिका के दोस्त नहीं हो सकते. व्हाइट हाउस ने यह जानकारी दी.

अमेरिका की ओर से ऐसे संदेश का लंबे समय से इंतजार किया जा रहा था. ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में वह पर्याप्त काम नहीं कर रहा है, इसके साथ ही पिछले महीने उसे दी जाने वाली करीब दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता पर भी रोक लगा दी थी.

ट्रंप के हाल के फैसलों का हवाला देते हुए व्हाइट हाउस ने उनकी विदेश नीति का फैक्ट शीट में विस्तृत ब्यौरा देते हुए कहा, ‘‘ राष्ट्रपति ट्रंप हमारे सहयोगियों को यह स्पष्ट कर रहे हैं कि आतंक का समर्थन करके, या उसे अनदेखा करके वह अमेरिका के मित्र नहीं बन सकते.

मंगलवार को ट्रंप के पहले स्टेट आफ दी यूनियन संबोधन के बाद व्हाइट हाउस ने फैक्ट शीट में कहा, राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को सुरक्षा सहायता रोक दी और इस तरह सहायता पाने वालों को संदेश दिया कि हम उनसे यह उम्मीद करते हैं कि वह आतंकवाद से लड़ाई में पूरी तरह हमारे साथ होंगे.

पाकिस्तान ने आतंकवाद को समर्थन देने के आरोपों से इनकार किया है. व्हाइट हाउस के मुताबिक ट्रंप अमेरिका की सुरक्षा को जो खतरे हैं उन पर लगातार ध्यान देंगे और कट्टरपंथी इस्लामिक आतंक तथा इसकी विचारधारा से मुकाबला करने और उसे हराने के प्रयासों को प्राथमिकता देंगे.



loading...