इमरान लेंगे सादे समारोह में शपथ, नहीं बुलाएंगे विदेशी नेता और सेलिब्रिटीज, सिर्फ करीबी दोस्तों को न्योता

2018-08-02_Imran-Khan-oth.jpg

इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत किसी भी विदेशी नेता को नहीं बुलाया जाएगा। पाकिस्तान के अखबार द डॉन के मुताबिक, इमरान ने गुरुवार को खुद यह फैसला लिया। वे 11 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। समारोह सादगी भरा होगा। शपथ ग्रहण पूरी तरह राष्ट्रीय समारोह होगा। इमरान के कुछ करीबी दोस्तों को ही बुलाया जाएगा। 

इससे पहले इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ ने मोदी समेत सार्क देशों के नेताओं को बुलाने की योजना बनाई थी। लेकिन पार्टी के नेताओं को डर था कि अगर मोदी ने आने से इनकार कर दिया तो उनकी काफी किरकिरी होगी।

पहले ऐसी खबर थी कि खान ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू, सुनील गावस्कर और कपिल देव को आमंत्रित किया है। सिद्धू ने उनके निमंत्रण को स्वीकार करते हुए कहा था कि वह इसमें शामिल होने के लिए पड़ोसी देश जरूर जाएंगे। उन्होंने इसे सम्मान की बात बताया था।

हालांकि यह अभी साफ नहीं है कि इस आमंत्रण के अब कुछ मायने हैं या नहीं। पीटीआई सूत्रों के अनुसार, 'खान विदेशों में रह रहे अपने निजी दोस्तों को अभी भी बुला सकते हैं।' खान की काफी लंबे समय से पाकिस्तान का वजीर-ए-आजम बनने की थी। इस इच्छा के पूरा होने के मौके पर उनकी पार्टी ने एक ग्रांड सेरेमनी का आयोजन करने और विदेशी शख्सियतों को बुलाने का निर्णय लिया था। हालांकि अचानक आए इस परिवर्तन के बाद खान ने ग्रांड की जगह सादा कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला लिया है।

 गुरुवार को इमरान खान की तारीफों के पुल बांधते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा था, 'गुणवान व्यक्ति की प्रशंसा की जाती है, शक्तिशाली व्यक्ति से डरा जाता है लेकिन चरित्रवान इंसान पर भरोसा किया जाता है। खान साहब चरित्रवान इंसान हैं। उनपर भरोसा किया जा सकता है। उन्होंने एक ऐसी जगह पर वर्ल्ड क्लास अस्पताल बनाया है जहां उचित स्वास्थ्य देखभाल की कमी थी। राजनीति में उनकी यात्रा को देखिए। वह परेशानियों के बावजूद उबरे हैं। उन्होंने सिस्टम से लड़ाई की है और अब वह चीजों को बदलेंगे।'



loading...