70वें स्वतंत्रता दिवस पर पाक ने वाघा बॉर्डर पर फहराया दक्षिण एशिया का सबसे ऊंचा झंडा

2017-08-14_Pakista-Inde-70-flag.jpg

 पाकिस्तान ने अपने 70वें स्वतंत्रता दिवस (14 अगस्त) को वाघा बॉर्डर पर साउथ एशिया का सबसे बड़ा झंड फहराया है। यह 120 फीट लंबा और 80 फीट चौड़ा है। इसे 400 मीटर ऊंचे उसी पोल पर फहराया गया, जिसके बारे में भारतीय खुफिया एजेंसियों ने कहा था कि यह फ्लैग पोल नहीं, बल्कि कैमरों से लैस वॉच टॉवर है। इसका मकसद भारतीय बॉर्डर के अंदर नजर रखना है। यह इंटरनेशनल ट्रीटी का वॉयलेशन है। 

पाकिस्तान ने यह झंडा सोमवार तड़के 12:00 फहराया। इस प्रोग्राम में सैकड़ों लोग शामिल हुए। पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा चीफ गेस्ट थे।  इस मौके पर जोरदार आतिशबाजी की गई और बाजवा ने पब्लिक काे एड्रेस किया। दावा किया गया है कि इसे पूरी तरह पाकिस्तान में ही तैयार किया गया है। यह दुनिया में आठवां सबसे बड़ा झंडा है।

अटारी (वाघा) बॉर्डर पर भारत ने इसी साल 5 मार्च में देश का सबसे ऊंचा झंडा फहराया था। तब इसे उस वक्त के लोकल बाडीज मिनिस्टर अनिल जोशी ने फहराया था। इस पर साढ़े तीन करोड़ की लागत आई थी। हालांकि, हवा के दबाव से बार-बार झंडा फटने की वजह से इसे रेगुलर फहराना बंद कर दिया गया।भारत के स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर रविवार को यह झंडा दोपहर में फहराया गया।

बाजवा ने कहा, "यही कोई 77 साल पहले, पाकिस्तान रेजॉलूशन इसी शहर (लाहौर) में पास हुआ था। पाकिस्तान रमजान के 27वें दिन वजूद में आया था। आज, देश कानून और संविधान के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। सभी इंस्टीट्यूशंस अपना काम बेहतरी से कर रहे हैं। हम पाकिस्तान को कायदे आजम (जिन्ना) और अल्लामा इकबाल का देश बनाएंगे।"

जेंसियां ने दावा किया है कि झंडा और टाॅवर पाक ने चीन से बनवाया है, जिस पर करीब 7 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इसके टॉप पर फिट हाई रिजोल्यूशन वाले कैमरों से भारतीय सीमा अटारी ही नहीं, बल्कि खासा स्थित सेना और बीएसएफ के हेडक्वार्टर तक पर नजर रखी जा सकती है। टाॅवर इस तरीके से बनाया गया है कि इस पर एक दर्जन से ज्यादा जवान आखिरी छोर तक पहुंचकर भारतीय इलाके पर नजर रख सकते हैं। बीएसएफ के ऑफिशियल्स का कहना है कि इस बारे में उन्होंने सरकार को जानकारी दे दी है और पाकिस्तान से एतराज भी जताया है।



loading...