पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से लेकर एलओसी तक तैनात किए बैट दस्ते

इमरान खान का ट्वीट, पाकिस्तान के नेशनल डे पर पीएम मोदी ने भेजा संदेश, भारत का जवाब, ये परंपरा का हिस्सा

राहुल गांधी के करीबी सैम पित्रोदा ने एयर स्ट्राइक पर उठाए सवाल, कहा- कुछ लोगों की गलती की सजा पूरे पाक को नहीं दे सकते

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, पाक के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे भारतीय प्रतिनिधि

Kartarpur Corridor: पाकिस्तान का दोहरा चरित्र आया सामने, गुरूद्वारे की जमीन पर किया कब्जा, भारत ने जताया विरोध

करतारपुर कॉरिडोर: भारत-पाक के बीच 'रचनात्मक' और 'सौहार्दपूर्ण' रही बातचीत, अब 2 अप्रैल को होगी अगली बैठक

राहुल गांधी ने कहा- मसूद अजहर का बचाव करने वाले चीन से डर गए कमजोर प्रधानमंत्री मोदी

2018-06-14_border.jpg

पाकिस्तान को कितनी भी चेतावनी दे दो वह अपनी हरकतों से बाज आने वाला नहीं है. अब एक नया पैंतरा अजमाते हुए बौखलाए पाकिस्तान ने आईबी अंतरराष्ट्रीय सीमा से लेकर एलओसी तक बैट दस्ते की तैनाती कर दी है. बताया जा रहा है कि 60-70 दस्ते इन दोनों स्थानों पर हमले की फिराक में हैं. आईबी पर रामगढ़़ सेक्टर में मंगलवार की रात हुए हमले में भी बैट के शामिल होने का शक है. हालांकि, इसकी आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन बीएसएफ के ADG केएन चौबे ने न तो इसे स्वीकार किया है और न ही इसकी संभावना से इनकार किया है.

सूत्रों ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ में नाकाम रहने तथा बीएसएफ के जवाबी कार्रवाई में भारी नुकसान से बौखलाए पाकिस्तान ने बैट हमले की साजिश की है. मंगलवार की रात हुई घटना में भी काफी करीब से बीएसएफ जवानों को निशाना बनाया गया है. ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि बैट के  सदस्य काफी करीब तक आ गए थे और उन्होंने बीएसएफ जवानों को निशाना बनाया. इसलिए आशंका जताई जा रही है कि जवानों को निशाना बनाने में बैट का हाथ होगा.

बैट में पाकिस्तानी सेना के साथ ही आतंकी व कसाई शामिल होते हैं. सभी काफी प्रशिक्षित तथा खूंखार होते हैं. वे किसी भी स्थिति में ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने की मंशा से ही हमला करते हैं. उन्हें हमले के दौरान शवों को क्षत विक्षत करने में किसी भी प्रकार की झिझक नहीं होती है. कुछ मौकों पर जवानों के सिर भी काटे गए हैं. कश्मीर घाटी में घुसपैठ के लिए एलओसी पार बने लांचिंग पैड पर 200 से 250 प्रशिक्षित आतंकी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं. खबर हैं कि 28 जून से शुरू हो रहे अमरनाथ यात्रा के दौरान भारी तबाही की साजिश के तहत आतंकियों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में इस पार भेजने की फिराक में आतंकी संगठन हैं.



loading...