एयर स्ट्राइक से तिलमिलाए पाक ने F-16 का किया था इस्तेमाल, भारतीय विमानों पर दागी थी 4-5 मिसाइलें

वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की याचिका को रक्षा मंत्रालय ने किया खारिज, जानें क्या है मामला

कमल हासन ने ‘हिंदू’ शब्द को लेकर दिया विवादित बयान

सरकार के लिए विपक्ष की मोर्चेबंदी, राहुल गांधी से मिले नायडू, शाम को लखनऊ में अखिलेश-मायावती से करेंगे मुलाकात

लोकसभा चुनाव: PM मोदी और अमित शाह को मिली क्लीनचिट से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने EC की मीटिंग से किया किनारा

PM मोदी की 5 साल में पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- फिर बनेगी पूर्ण बहुमत वाली NDA की सरकार

साध्‍वी प्रज्ञा के नाथूराम गोडसे वाले बयान पर पीएम मोदी ने कहा- दिल से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा, अनिल सौमित्र को पार्टी से निलंबित किया

2019-03-06_F16.jpg

पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश के आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के एयर स्ट्राइक से तिलमिलाए पाक ने 27 फरवरी को भारत की सीमा में घुसने के कोशिश की. इसके लिए ना सिर्फ उसने F-16 लड़ाकू विमान का उपयोग किया, बल्कि भारत के सुखोई-30 और मिग-21 को निशाना बनाकर चार से पांच मिसाइल भी दागे. अपने इस मंसूबे में वह असफल रहे.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पाकिस्तान ने हवा में लगभग 40 से 50 किलोमीटर की दूरी से हमले की कोशिश की. इसके लिए उसने (AMRAAM) अमेरिकन एयर टू एयर मिसाइलें दागी थीं. पाकिस्तान के पास जितने लड़ाकू विमान हैं उसमें से सिर्फ एफ-16 में ही इस मिसाइल से हवा में हमला करने की क्षमता है. आपको बता दें कि पाकिस्तान लगातार इस बात से इनकार कर रहा है कि उसकी वायुसेना ने एफ-16 का उपयोग किया है.

सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के दावों को गलत साबित करने के लिए भारतीय सेना ने उन इलाकों की गहन तलाशी की है, जहां AMRAAM के गिरने की संभावना है. साथ ही सूत्र ने यह भी कहा कि मिसाइल के और भी टुकड़े मिल जाने के बाद पाकिस्तान का झूठ बेनकाब हो जाएगा, जिसमें वह लगातार यह कह रहा है कि उसने एफ-16 का इस्तेमाल नहीं किया है.

आपको बता दें कि 27 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के रजौरी के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान ने भारतीय सेना के ठिकाने को निशाना बनाने की कोशिश की, जिसमें वह असफल रहे. इस दौरान भारतीय वायुसेना ने उन्हें खदेड़ दिया और पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को भी मार गिराया.

सूत्र ने इस बात की संभावना जतायी है कि पाकिस्तान की मंशा भारतीय सेना के ब्रिगेड को नष्ट करने की थी. भारत की तरफ से अमेरिका के रक्षा विभाग को भी AMRAAN के टुकड़े को सबूत के तौर पर पेश किया गया है.



loading...