मेघालय: 200 फीट गहरी खदान में फंसे खनिकों में से नौसेना ने 1 शव निकाला, नैवी और NDRF का बचाव अभियान जारी

मेघालय: खदान में फंसे 15 मजदूरों का 18 दिन बाद भी नहीं मिला कोई सुराग, भारतीय नौसेना और NDRF का बचाव अभियान जारी

मेघालय में खदान में फंसे खनिकों को बचाने का अभियान तेज, वायुसेना ने राहत कार्य के लिए सुपर हरक्यूलिस को उतारा

राहुल गांधी ने खदान में फंसे खनिकों को बचाने के बहाने PM मोदी पर साधा निशाना, फोटो न खिंचवाकर उन्हें बचाएं

मेघालय में 13 मजदूर कोयला खदान में फंसे, सीएम संगमा बोले- हालात बेहद नाजुक, सभी को सुरक्षित बचाना मुश्किल

मेघालय में कर्नाटक की तरह बना सकती है कांग्रेस अपनी सरकार, कर सकती है दावा पेश, उपचुनाव में मारी बाज़ी

मेघालय में NDA की सरकार, कोनराड संगमा ने ली CM पद की शपथ, राजनाथ-शाह हुए समारोह में शामिल

2019-01-17_CoalMines.jpg

मेघालय की ईस्ट जयंतिया हिल्स स्थित गैरकानूनी कोयला खदान में 13 दिसंबर से फंसे 15 खनिकों में से एक का शव बरामद कर लिया गया है. उसका शव 200 फीट की गरहाई से मिला है. बाकी खनिकों के शवों को ढूंढने की कोशिश जारी है.

आपको बात दें 370 फुट गहरी अवैध खदान में एक नदी का पानी आ जाने के कारण 15 खनिक 13 दिसंबर से फंसे हुए हैं. उन लोगों को निकालने के लिए कई एजेंसियां काम कर रही हैं. खनिकों को बचाने के लिए बचाव अभियान भी जारी है. 

अडिश्नल डिप्टी कमिश्नर का कहना है कि नौसेना द्वारा संचालित आरओवी ने एक शव बरामद किया है. आज वो दोबारा इसका संचालन शुरू करेंगे. बचावकर्ताओं ने  खदान से पानी निकालने की कोशिश की, इसके लिए हाई पावर वाले पंप का इस्तेमाल किया गया, लेकिन अधिक सफलता नहीं मिल पाई. इसके बाद नौसेना ने पानी के भीतर रिमोट से संचालित होने वाले वाहन का प्रयोग किया. करीब 200 बचावकर्ता इस काम में लगे हुए हैं.  

इससे पहले बीते हफ्ते सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से बचाव अभियान जारी रखने को कहा था. कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से कहा था कि खनिकों को बचाने के प्रयास लगातार किए जाएं और विशेषज्ञों की सहायता भी ली जाए.

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा था कि जो लोग अवैध खदान चला रहे थे उनके खिलाफ और जिन अधिकारियों ने अवैध खदान को इजाजत दी उन पर क्या कार्रवाई हुई? जस्टिस एके सीकरी के नेतृत्व वाली बेंच ने कहा, 'अपने बचाव कार्य को जारी रखें. क्या होगा अगर उनमें से कुछ या सभी अभी भी जिंदा हुए तो? चमत्कार होते रहते हैं.



loading...