मंगल ग्रह पर जाने के लिए एक लाख भारतीयों ने कराई बुकिंग

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज के बयान पर सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया करारा जवाब, कहा- मुशर्रफ को पसंद करने वालों को पाकिस्तान भेजेंगे

जस्टिस चेलमेश्वर आज सुप्रीम कोर्ट से हो जायेंगे रिटायर, कोलेजियम में बड़ा बदलाव

नोटबंदी के दौरान सबसे ज्यादा पुराने नोट जिस बैंक में जमा हुए उसके निदेशक हैं अमित शाह, आरटीआई से खुलासा

अलकायदा, आईएस के नए संगठनों पर मोदी सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नौकरी के नाम पर UP के युवाओं से घाटी में पत्थरबाजी के लिए बनाया दबाव, जान बचाकर लौटे युवक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

2017-11-09_Ticket-For-Mars.jpeg

मंगल पर नासा की ओर से साल 2018 में  एक फ्लाइट रवाना की जाएगी और इस सफर के लिए आम लोगों को भी निमंत्रण भेजा गया है। चौंका देने वाली बात है कि करीब 1 लाख भारतीयों ने मंगल ग्रह पर जाने की इच्छा जताई है। नासा की ओर से 2018 में मंगल ग्रह पर जाने वाली फ्लाइट के लिए 1,38,899 भारतीयों ने टिकट बुकिंग के लिए नामांकन भेजा है।

नासा के मुताबिक मंगल पर जाने के लिए फाइनल किए गए नामों को एक सिलिकॉन माइक्रोचिप पर इलेक्ट्रोन माइक्रोबिम के जरिए लिखा जाएगा। नासा ने कहा कि जिन लोगों ने मंगल पर जाने के लिए अपना नाम भेजा है उन्हें ऑनलाइन ही बॉर्डिंग पास दिए जाएंगे।

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नासा के पास करीब दो करोड़ 42 लाख नाम आए हैं। दिलचस्प बात है कि मंगल पर जाने वाले देशों की लिस्ट में भारत तीसरे नंबर पर रहा, जबिक पहले पर अमेरिका और दूसरे पर चीन रहा है।

एक अंग्रेजी अख़बार की खबर के मुताबिक अमेरिका की ओर से 6,76,773 और चीन की ओर से 2,62,752 लोगों के नाम नासा के पास आए हैं। स्पेस एक्सपर्ट्स के मुताबिक लिस्ट में अमेरिका का सबसे ऊपर होना लाजमि है, क्योंकि ये नासा का मिशन है। वहीं चीन के बाद भारत का नंबर आना चौंकाने वाला है। हालांकि, इससे भारत और अमेरिका के रिश्तों में भी मजबूती आएगी।

बता दें कि 5 मई को निकलने वाली फ्लाइट 26 नवंबर 2018 को मंगल पर पहुंचेगी और ये करीब 720 दिन का मिशन है।



loading...