ऑड-ईवन: NGT ने लगाई केजरीवाल सरकार को फटकार, दायर की पुनर्व‌िचार याच‌िका

दिल्ली: पति ने बच्चों के सामने की पत्नी की हत्या, सिर पर हथौड़ा मार कर ली जान

नहीं रहे दिल्ली हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस राजिंदर सच्चर, 94 साल की उम्र में हुआ निधन

अतुल माहेश्वरी छात्रवृति 2017 में उपराष्ट्रपति ने किया बच्चों को सम्मानित, उपराष्ट्रपति भवन में सम्पन्न हुआ अवार्ड समारोह

दिल्ली वालों के लिए खुशखबरी: बिन बताए बिजली कटी तो हर घंटे में मिलेंगे इतने रुपए

शर्मनाक: कैब में महिला के सामने उबेर ड्राइवर ने की गंदी हरकत, गिरफ्तार

होली में डीयू की छात्राओं पर फेंके गुब्बारे में सीमेन नहीं था, फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी का दावा, भेजे गये सैंपल में ऐसा कुछ नहीं आया

2017-11-13_ngt-arvind-delhi.jpg

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में ऑड ईवन पर सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार का पक्ष रखने के लिए आज कोई वकील नहीं था. इसे लेकर एनजीटी ने सख्त नाराजगी दिखाई और केजरीवाल सरकार को कड़ी फटकार लगाई. एनजीटी ने पूछा कि इतने महत्वपूर्ण मामले पर दिल्ली सरकार का पक्ष रखने के लिए उसका कोई वकील क्यों नहीं मौजूद है?

आज सुनवाई के दौरान एनजीटी ने दिल्ली सरकार से पूछा कि क्या ऑड-ईवन पर पुनर्विचार याचिका को बारे में सिर्फ मीडिया को ही जानदारी देनी थी? हालांकि, बाद में दिल्ली सरकार के वकील ने एनजीटी में पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी जिसमें कहा गया कि ऑड ईवन से महिलाओं और बाइकर्स को छूट दी जाए. इससे पहले दिल्ली सरकार ने एनजीटी में कहा था कि वह महिलाओं को छूट दिए बिना इसे लागू नहीं कर सकती.

वहीं, दिल्ली की हवा अब भी खतरनाक स्तर पर बनी हुई है. स्मॉग के चलते लोगों को दिक्कतें हो रही हैं. दिल्ली में स्मॉग बढ़ने के कारण सरकार ने दिल्ली में सभी स्कूलों को शनिवार तक बंद रखने के आदेश दिए थे. सोमवार से सभी स्कूल खुल गए हैं. लेकिन हालात में अब भी सुधार नहीं आया है. वहीं, पराली जलाने के मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई होनी है. 

बता दें कि एनजीटी ने निर्देश दिया था कि ऑड ईवन का नियम सभी गाड़ियों पर लागू होना चाहिए चाहे बाइक हो या महिलाओं का मामला. वीवीआईपी के साथ-साथ महिलाओं और बच्चों को भी छूट नहीं दी जाएगी. इसके बाद केजरीवाल सरकार नें इसे लागू नहीं करने का निर्णय लिया था.



loading...