ताज़ा खबर

चुनावी असफलता के बाद तितर-बितर हो गया गठबंधन, अब रालोद भी अकेले लड़ेगी उपचुनाव

गाजियाबाद में सीवर की सफाई करने उतरे 5 लोगों की मौत

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी, याचिकाकर्ता के वकील ने कहा- मैं श्री राम उपासक हूं और मुझे जन्मस्थान पर उपासना का अधिकार है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने DJ बजाने पर लगाई रोक, ध्वनि प्रदूषण होने पर थाना इंचार्ज होंगे जिम्मेदार

अयोध्या मामला Live: रामलला के वकील बोले- कोई मंदिर कोई देवता नहीं तो फिर भी लोगों की जन्मभूमि के प्रति आस्था ही काफी है

योगी मंत्रिमंडल का विस्तार, 6 कैबिनेट, 6 स्वतंत्र प्रभार और 11 राज्य मंत्रियों ने ली शपथ

योगी सरकार का कल होगा मंत्रिमंडल विस्तार, जानें किन नए चेहरों को मिल सकता है मौका

2019-06-05_AjitSingh.jpg

लोकसभा चुनाव के दौरान पूरे दम-खम के साथ भाजपा के खिलाफ उत्तर प्रदेश के चुनावी रण में उतरने वाले सपा-बसपा-रालोद गठबंधन, चुनावी असफलता के बाद तितर-बितर हो गया है. एक दिन पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तर प्रदेश में 11 सीटों के लिए होने वाले विधानसभा उपचुनाव में पार्टी के अकेले उतरने की घोषणा की. इसके जवाब में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी गठबंधन टूटने पर अफसोस जताया और ऐलान किया किया कि उनकी पार्टी भी विधानसभा के उपचुनाव में अपने उम्मीदवार उतारेगी. 

अब गठबंधन की तीसरी पार्टी, अजीत सिंह के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय लोकदल (RLD) ने भी कहा है कि वह भी आने वाले उपचुनाव में अपने उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतारेगी. यूपी की सियासत में गर्माहट लाने वाले तीनों दलों के नेताओं के बयान पर गौर करें तो आपको बड़ी हैरानी होगी. क्योंकि तीनों नेताओं ने अपनी पार्टियों की ओर से उम्मीदवार उतारने की घोषणा की है और यह भी कहा है कि गठबंधन बरकरार है. ऐसे में यह समझना मुश्किल है कि जब गठबंधन के तीनों दल अलग-अलग चुनाव लड़ेंगे तो फिर गठजोड़ बचा ही कहां है.

ईद से एक दिन पहले सपा-बसपा-रालोद गठबंधन बिखरने के बीच, गठबंधन के तीसरे घटक रालोद ने बुधवार को कहा कि वह उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा उपचुनाव लड़ेगा. साथ ही रालोद ने उम्मीद जताई कि गठबंधन बना रहेगा. रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मसूद अहमद ने पीटीआई भाषा को बताया कि राष्ट्रीय लोक दल एक राजनीतिक दल है और हम उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपचुनाव में मैदान में उतरेंगे. हालांकि प्रदेश के राजनीतिक परिदृश्य पर टिप्पणी करना अभी जल्दबाजी होगी. जहां तक प्रत्याशियों के चयन की बात है तो यह फैसला हमारे राष्ट्रीय नेतृत्व- चौधरी अजीत सिंह और जयंत चौधरी करेंगे.



loading...