राजस्थान के बाद अब हरियाणा में भीड़ हिंसा का कहर, भैंस चुराने के शक में 2 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला

2018-08-04_PalwalMobLynching.jpg

राजस्थान के बाद अब हरियाणा में भीड़ हिंसा का कहर सामने आया है. गुस्साई भीड़ का किसी पर हमला कर उसे पीट-पीटकर मार डालने की घटनाएं जैसे सामान्य बात होती जा रही है. आपको बता दें कि ऐसी ही दो घटनाएं हरियाणा के पलवल जिले में हुई हैं जो भीड़ हिंसा का ताजा उदाहरण हैं. इन दोनों ही घटनाओं में अलग-अलग जगह पर भीड़ ने दो लोगों को इतना पीटा कि उनकी मौत हो गई. पलवल जिला मुख्यालय से मात्र पांच किलोमीटर की दूरी पर बसे बहरोला गांव में पशु चोरी करने आए एक चोर की लोगों ने हाथ-पैर बांधकर मारपीट कर दी. मारपीट से लगी चोटों के कारण चोर की मौत हो गई. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पहचान व पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल के शवगृह में रखवा दिया. पुलिस ने इस संबंध में ईएएसआई रामबीर की तहरीर पर तीन सगे भाईयों के खिलाफ गैर इरादन हत्या का मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है.

सदर थाना के जांच अधिकारी एएसआई सुरेश कुमार के अनुसार ईएएसआई रामबीर ने बताया कि वे नेशनल हाईवे पर रात्रि गश्त कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें सूचना मिली की बहरोला गांव के निकट खेतों में श्रद्धाराम के बेटे मकान बनाकर परिवार के साथ रहते है.
रात्रि में एक चोर उनके मकान में भैसों को चोरी करने के लिए आया. परिवार के लोगों की नींद खुलने पर उन्होंने उसे पकड़कर बांध दिया और उसके साथ मारपीट की, मारपीट में चोर की मौत हो गई.

दूसरी घटना पलवल थाना क्षेत्र के अंतर्गत राजमार्ग अपने प्लॉट पर बने कमरे में सो रहे एक व्यक्ति की अज्ञात लोगों द्वारा पीट-पीटकर हत्या करने का मामला प्रकाश में आया है. पुलिस ने मृतक के भतीजे की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है. शहर थाना पुलिस के अनुसार शिवपुरी मौहल्ला पलवल निवासी श्याम सुंदर ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में कहा है कि उनके चाचा 72 वर्षीय जगदीश ने शादी नहीं की थी और वे अगवानपुर रोड़ पर धर्मा ढ़ाबा के पीछे प्लांट में बने कमरे में रहते थे. प्लॉट में बने दो कमरों को उन्होंने किराए पर दिया हुआ था, लेकिन पिछले दो दिन से किराएदार भी नहीं थे. गुरूवार को देर शाम जब उनका (श्याम सुंदर) भतीजा लक्ष्मण प्लाट पर अपने दादा जगदीश का खाना देने के लिए पहुंचा तो उसने देखा की श्याम सुंदर बेड से नीचे खून से लथपथ हालत में पड़े हुए थे.

लक्ष्मण ने इसकी सूचना तुरंत अपने परिजनों को दी, परिजन सूचना मिलते ही गाड़ी लेकर मौके पर पहुंच गए और घायल अवस्था में जगदीश को उपचार के लिए फरीदाबाद स्थित एक निजी अस्पताल ले गए. जहां उसे मृत घोषित कर दिया.



loading...