ताजमहल में शिव चालीसा पर विवाद, कटियार बोले- पुराने राजाओं का मंदिर, पूजा गलत नहीं

2017-10-24_Taj-Mahal-premises-katiyar.jpg

ताजमहल को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. बीते दिन सोमवार को हिंदू युवा वाहिनी के लोगों द्वारा स्मारक में शिव चालीस पढ़ने को लेकर राजनीति गर्म हो गई है. अब बीजेपी के नेता विजय कटियार ने भी एक विवादित बयान दिया है. उन्होंने मंगलवार को कहा कि ताजमहल में शिव चालीसा पढ़े जाने में कोई आपत्ति नहीं है क्योंकि ये पूरा परिसर ही भगवान शिव से संबंध रखता है.

विनय कटियार ने कहा है कि ताजमहल में पूजा करना गलत नहीं, कोई अंदर नहीं गया बाहर ही पूजा की है. वहां कोई हनुमान चालीसा पढ़े या शिव आरती करे, इसमें कोई दिक्कत नहीं है.

राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख नेताओं में शामिल रहे कटियार ने इससे पहले ताजमहल को ‘तेजो महालय’ बताया था. उन्होंने इसके लिए इतिहासकार पीएन ओक की किताब का भी हवाला दिया था, जिसमें इसे एक शिव मंदिर बताया गया है. उन्होंने कहा था कि इसे हिंदू राजाओं ने बनवाया था लेकिन शाहजहां ने अपनी पत्नी को दफनाने के लिए इसे मकबरे में बदल दिया था. कटियार ने यह भी कहा था कि वे इसे गिराए जाने के पक्ष में नहीं है क्योंकि इसे बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक देखने के लिए आते हैं. लेकिन उन्होंने इसे सांस्कृतिक धरोहर मानने से इनकार कर दिया है.

बता दें 26 अक्टूबर को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आगरा जा रहे हैं. यहां उनके कार्यक्रम में ताजमहल में 30 मिनट रुकने के अलावा स्वच्छ भारत अभियान के तहत झाड़ू लगाना भी शामिल है.



loading...