ताज़ा खबर

यूपी के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को नहीं मिलेगा वीआईपी ट्रीटमेंट, शासनादेश हुआ जारी

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर रोडवेज बस में लगी आग, 4 की मौत, 2 घायल

सीएम के बयान पर बोले इमरान मसूद, भारत माता उतनी ही मेरी हैं, जितनी योगी जी की हैं

लोकसभा चुनाव: हेमा मालिनी ने भरा पर्चा, सीएम योगी बोले- अब यूपी में गुंडे या तो जेल में हैं या उनका राम-नाम सत्य है हो गया है

मुलायम और अखिलेश की बढ़ सकती है मुश्किलें, आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट ने CBI से मांगी रिपोर्ट

प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर बोला हमला, कहा- टी-शर्ट की मार्केटिंग करने के बजाय नेता शिक्षामित्रों पर ध्यान देते

लोकसभा चुनाव: 25 मार्च को हेमा मालिनी के लिए वोट मांगने और पर्चा भरवाने मथुरा जायेंगे सीएम योगी आदित्यनाथ

2018-10-30_YogiGovernment.jpg

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. स्वास्थ्य विभाग ने इस बाबत शासनादेश जारी कर दिया है. हाईकोर्ट में दाखिल याचिका के फैसले के आधार पर ये नियम लागू करने के आदेश दिए हैं.

सचिव स्वास्थ्य वी हेकाली झिमोमी ने शासनादेश में कहा है कि किसी को भी वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. सभी मरीजों के साथ एक समान व्यवहार होगा.

यदि ऐसी किसी बीमारी का इलाज कराना पड़े, जिसका इलाज सरकारी अस्पताल में नहीं है तो विशेष परिस्थितियों में प्रतिपूर्ति दी जा सकती है.

कोर्ट के आदेश की प्रति सभी सीएमएस, सीएमओ और सीएचसी व पीएचसी के प्रभारियों को भेजी गई है.



loading...