यूपी के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को नहीं मिलेगा वीआईपी ट्रीटमेंट, शासनादेश हुआ जारी

मायावती ने सपा-बसपा कार्यकताओं से कहा- लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर दें बर्थडे गिफ्ट, मुस्लिमों को आरक्षण देने की मांग

प्रयागराज में पहले शाही स्नान के साथ कुंभ 2019 का आरंभ, पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, स्मृति ईरानी ने किया संगम तट पर स्नान

यूपी में सपा-बसपा का गठबंधन, अमर सिंह बोले- ये केवल बुआ-बबुआ का गठजोड़, रामदास अठावले ने कहा- SP-BSP गठबंधन नहीं होगा सफल

यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन का ममता बनर्जी ने ट्वीट कर किया स्वागत, सीएम योगी ने कहा- ये भष्टाचार बढ़ाने वाला गठबंधन

सपा-बसपा के गठबंधन पर रविशंकर प्रसाद ने कहा- अपने अस्तित्व को बचाने के लिए साथ आए बूआ और बबूआ

लोकसभा चुनाव: सपा-बसपा 38-38 सीटों पर लड़ेंगे, अखिलेश बोले अगला पीएम यूपी से होगा

2018-10-30_YogiGovernment.jpg

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. स्वास्थ्य विभाग ने इस बाबत शासनादेश जारी कर दिया है. हाईकोर्ट में दाखिल याचिका के फैसले के आधार पर ये नियम लागू करने के आदेश दिए हैं.

सचिव स्वास्थ्य वी हेकाली झिमोमी ने शासनादेश में कहा है कि किसी को भी वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. सभी मरीजों के साथ एक समान व्यवहार होगा.

यदि ऐसी किसी बीमारी का इलाज कराना पड़े, जिसका इलाज सरकारी अस्पताल में नहीं है तो विशेष परिस्थितियों में प्रतिपूर्ति दी जा सकती है.

कोर्ट के आदेश की प्रति सभी सीएमएस, सीएमओ और सीएचसी व पीएचसी के प्रभारियों को भेजी गई है.



loading...