यूपी के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को नहीं मिलेगा वीआईपी ट्रीटमेंट, शासनादेश हुआ जारी

यूपी: कुंडा से निर्दलीय विधायक राजा भैया ने नई पार्टी की घोषणा, कहा- जाति नहीं योग्यता के आधार पर हो आरक्षण

चुनाव आचार संहिता उल्लंघन मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने किया समर्पण, मिली जमानत

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में प्रिंटर से 500 और 2000 के नकली नोट छापने वाले गिरोह का भंडाफोड़, 1 गिरफ्तार

योगी कैबिनेट ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने पर लगाई मुहर

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया मल्टी मॉडल टर्मिनल का उद्घाटन

अब अयोध्या और मथुरा के लिए योगी सरकार ने तैयार किया बड़ा प्लान, मांस-मदिरा की बिक्री और सेवन पर लगेगा पूर्ण प्रतिबंध

2018-10-30_YogiGovernment.jpg

उत्तर प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में मंत्री, विधायकों और अधिकारियों को वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. स्वास्थ्य विभाग ने इस बाबत शासनादेश जारी कर दिया है. हाईकोर्ट में दाखिल याचिका के फैसले के आधार पर ये नियम लागू करने के आदेश दिए हैं.

सचिव स्वास्थ्य वी हेकाली झिमोमी ने शासनादेश में कहा है कि किसी को भी वीआईपी इलाज नहीं मिलेगा. सभी मरीजों के साथ एक समान व्यवहार होगा.

यदि ऐसी किसी बीमारी का इलाज कराना पड़े, जिसका इलाज सरकारी अस्पताल में नहीं है तो विशेष परिस्थितियों में प्रतिपूर्ति दी जा सकती है.

कोर्ट के आदेश की प्रति सभी सीएमएस, सीएमओ और सीएचसी व पीएचसी के प्रभारियों को भेजी गई है.



loading...