दरभंगा रैली में पीएम मोदी ने लगवाए ‘वंदे मातरम्’ के नारे, मंच पर मुस्कराते नजर आए नीतीश कुमार

2019-05-02_NitishPmModi.jpg

लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दरभंगा दौरा इन दिनों चर्चा का केंद्र बना हुआ है. उनके दौरे को लेकर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें मंच से पीएम मोदी द्वारा ‘वंदे मातरम्’ का नारा लगवाया जा रहा है, उसी मंच पर मौजूद सभी नेता नारे में शामिल हैं, परंतु मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चुपचाप बैठे हुए हैं. राजनीति में हैरान कर देने वाले फैसलों को लेकर चर्चा में रहे नीतीश कुमार के इस वीडियो ने एक बार फिर बिहार की सियासत को गर्मा दिया है. सियासी जानकार इसको लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद बनने वाले सत्ता समीकरण से जोड़कर देख रहे हैं. वहीं, विपक्षी दलों के लिए यह वीडियो नीतीश कुमार को निशाने पर लेने की वजह बना है. 

यह वीडियो लोकसभा चुनाव के चौथे चरण के मतदान से पहले बिहार के दरभंगा में हुई पीएम मोदी की सभा का है. इस चुनावी सभा में अपना संबोधन समाप्त करने के बाद पीएम मोदी ने लोगों से ‘वंदे मातरम्’ के नारे लगवाए. इस दौरान मंच पर मौजूद लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय सहित कई नेताओं ने हाथ उठाकर उनका साथ दिया. लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस नारे पर चुपचाप बैठे रहे और मुस्कुराते रहे. वीडियो में साफ दिख रहा है कि पीएम के आह्वान पर जब सभी नेता और सभा में मौजूद लोग हाथ उठाकर नारा लगा रहे थे, उस दौरान नीतीश कुमार मंद-मंद मुस्काते हुए चुपचाप बैठे हैं. नारे का शोर थमने के बाद जब मोदी डॉयस से हटे, तब जाकर नीतीश कुमार खड़े हुए और प्रधानमंत्री के साथ-साथ लोगों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया.

विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने टि्वटर पर इस वीडियो को शेयर किया और नीतीश पर तंज कसते हुए लिखा, “खाली मेरे चाचा पर विशेष नजर बनाए रखिए. प्यारे, नीतीश चाचा, आपने अपना क्या हाल बना लिया है. शायद अब घुटन नहीं होगी, क्योंकि जहरीले लोग साथ जो हैं. हाय हाय ये मजबूरी, ये मौसम और ये दूरी, मुझे पल पल है तड़पाये, तेरी दो टकियां दी नौकरी वे मेरा लाखों का सावन जाये, हाय हाय ये मजबूरी.”

इधर, जदयू के प्रधान महासचिव और वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने कहा कि इसे बेकार का मुद्दा बनाया जा रहा है. राजग के सभी नेता एक साथ प्रचार में जुटे हैं. उन्होंने कहा, “विपक्ष के लोग इस वीडियो को कुछ ज्यादा ही पढ़ रहे हैं. हमलोग भाजपा के राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे के साथ हैं और वंदे मातरम के साथ भी हैं.” बहरहाल, पीएम मोदी के साथ कई वर्षों तक मंच साझा न करने वाले नीतीश जब एक बार फिर भाजपा के साथ आए हैं, तो जदयू भले ही इसे अपने नेता की ‘विकासवादी राजनीति’ मान रहा हो, लेकिन सियासी विशेषज्ञों के लिए तो यह एक और नया संकेत है. संकेत इस बात का कि क्या एक बार फिर नीतीश कुमार अपनी राजनीति की ‘धुरी’ बदलने वाले हैं.



loading...