भगोड़े नीरव मोदी की न्यायिक हिरासत 17 अक्टूबर तक बढ़ी, 6 महीने से जेल में है बंद

2019-09-19_NiravModi.jpeg

पंजाब नेशनल बैंक के साथ 13 हजार करोड़ की धोखाधड़ी और धनशोधन मामले में भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी बृहस्पतिवार को एक वीडियो लिंक के जरिए ब्रिटेन की अदालत में पेश किया गया. लंदन की जेल में बंद मोदी हिरासत की नियमित सुनवाई के लिए अदालत के समक्ष पेश होना था.

भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी को गुरुवार को 17 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से 13 हजार करोड़ रुपये के घोटाले और मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप हैं. 48 वर्षीय नीरव, वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में अपनी लंदन जेल से एक नियमित कॉल-ओवर रिमांड सुनवाई के लिए वीडियोकॉल के माध्यम से पेश हुआ.

न्यायाधीश टैन इकरम ने पिछली पेशी सुनवाई यानी 22 अगस्त को कहा था कि आज कोई प्रगति नहीं हुई. उन्होंने अदालत के क्लर्क को प्रस्तावित पांच दिन की प्रत्यर्पण सुनवाई शुरू करने की तारीख 11 मई, 2020 की पुष्टि करने के लिए निर्देश दिए थे.

अगले साल फरवरी में प्रत्यर्पण मुकदमे से पहले मामले में प्रबंधन सुनवाई का भी एक मामला चल सकता है. भारत सरकार के आरोपों पर स्कॉटलैंड यार्ड ने मार्च में नीरव मोदी को गिरफ्तार किया था और वह तब से दक्षिण पश्चिम लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद है.
 



loading...