मालेगांव विस्फोट मामले में कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रजा समेत 7 पर आतंकी साजिश और हत्या के आरोप तय

महाराष्ट्र के सोलापुर में बोले पीएम मोदी, आरक्षण पर झूठ फैलाने वालों को लोकसभा में मिला करारा जवाब

लोकसभा चुनाव 2019: महाराष्ट्र में एनसीपी और कांग्रेस के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, सहयोगियों के लिए छोड़ी इतनी सीटें

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा- 2050 तक महाराष्‍ट्र से एक से अधिक प्रधानमंत्री बन सकते हैं

पंचतत्व में विलीन हुए कोच रमाकांत आचरेकर, अंतिम दर्शन के समय छलके तेंदुलकर के आंसू

भीमा कोरेगांव हिंसा की सालगिरह: विजय स्तम्भ पर इकट्ठा हुए हजारों लोग, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात

मुंबई में कमला मिल्स कंपाउंड के पास निर्माणाधीन बिल्डिंग में लगी आग, मौके पर दमकल की 5 गाड़ियां मौजूद

2018-10-30_MalegaonBlast.jpg

2008 मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित की याचिका को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) अदालत ने खारिज करते हुए आरोप तय कर दिए हैं. लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रजा सहित अन्य पांचो दोषियों पर आरोप तय किए गए हैं. 

एनआईए की विशेष अदालत ने वर्ष 2008 के मालेगांव बम धमाका मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर सहित अन्य के खिलाफ आरोप तय किए हैं. मालेगांव मामले में सभी सात आरोपियों के खिलाफ गैर-कानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (यूएपीए) और आईपीसी की धाराओं के तहत आरोप तय किए गए हैं.

इस धमाका मामले में सातों आरोपियों पर आतंकवाद की साजिश रचने सहित हत्या और अन्य अपराध का आरोप भी दर्ज किया है. सभी आरोपियों पर आईपीसी की गैर-कानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (यूएपीए) और आईपीसी की धाराओं के तहत इन पर मुकदमा चलाया जाएगा. इस मामले में अगली सुनवाई 2 नवंबर को होगी. 

फैसला सुनाते हुए न्यायाधीश वीएस पडलकर ने कहा कि सभी आरोपियों पर अभिनव भारत संस्था बनाने और 2008 में मालेगांव धमाका करने का आरोप लगाया जाता है जिसमें छह लोग मारे गए थे. 29 सितंबर 2008 को हुए इस धमाके में छह लोगों की जान चली गई थी 100 से अधिक लोग घायल हुए थे.



loading...