स्टीफन हॉकिंग भारत के दोस्त थे, अच्छे साइंटिस्ट देश के लिए पावर हाउस की तरह होते हैं : पीएम मोदी

2018-03-16_piem52.jpg

शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणिपुर यूनिवर्सिटी में 105वीं इंडियन साइंस कांग्रेस की शुरुआत की. इस मौके पर उन्होंने कहा कि महान साइंटिस्ट स्टीफन हॉकिंग 2 बार भारत आए, वो भारत के अच्छे दोस्त थे. 

उन्होंने कहा कि अच्छे साइंटिस्ट देश के लिए पावर हाउस की तरह हैं. इसस पहले मणिपुर पहुंचने पर गवर्नर नजमा हेपतुल्ला और मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने उनका स्वागत किया. मोदी राज्य में कई प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे. मोदी ने कहा कि दुनिया के महान साइंटिस्ट स्टीफन हॉकिंग 2 बार भारत आए, वो भारत के अच्छे दोस्त थे. कॉस्मोलॉजी के स्टार थे. भारत के लिए एक तरह से प्रेरणा के स्रोत थे.

उन्होंने कहा कि यह दूसरा मौका है, जब नॉर्थ-ईस्ट में साइंस कांग्रेस हो रही है. अच्छे साइंटिस्ट देश के लिए पावर हाउस की तरह हैं. इसीलिए आप सभी लोग यहां इकट्ठे हुए हैं. साइंस एंड टेक्नोलॉजी की मदद से लोगों का जीवन आसान हुआ है.

उन्होंने कहा कि 1944 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने मणिपुर में रहते हुए आजादी के लिए लड़ाई शुरू की थी. आज साइंस से जुड़े लोगों के बीच वही जज्बा देखने को मिल रहा है. हमने किसानों को मौसम की जानकारी देने के लिए नॉर्थ-ईस्ट समेत देशभर में कई सेंटर बनाए हैं.

मोदी ने आगे कहा कि क्लाइमेट चेंज के लिए हमें सतर्क रखने की जरूरत है. हमने नेशनल बांबू मिशन के तहत बांस को घास की कैटेगरी में रखा है. ताकि इसे काटने में किसी को परेशानी न हो.

सीवी रमन समेत कई साइंटिस्ट से देश को आगे बढ़ने और समाज के लिए नए चैलेंज लेने की प्रेरणा मिलती है. विज्ञान के जरिए सामाजिक जिम्मेदारी हम सबकी है. मैं देश के साइंटिस्ट से कहना चाहता हूं कि देश के इनोवेटिव टेक्नोलॉजी तलाशें और स्टूडेंट से कहता हूं कि 100 स्टूडेंट, 100 घंटे के लिए एक साथ बैठकर नई खोज करें.

पीएम ने कहा कि हमारे साइंटिस्ट ने एक बार में 100 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे हैं, जो देश के लिए बड़ी उपलब्धि है. हमने लेजर टेक्नोलॉजी में खोज के लिए दुनिया की तीसरी लेजर लैब 'लीबो' के लिए हरी झंडी दी है. 

बता दें कि यहां बीजेपी गठबंधन वाली सरकार के एक वर्ष पूरा होने के अगले दिन प्रधानमंत्री मणिपुर गए हैं.



loading...