मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: सुप्रीमकोर्ट ने बिहार सरकार को लगाई फटकार, कहा- 24 घंटे में ठीक करें FIR

बिहार के गया में प्रेमी जोड़े ने जान देकर चुकाई प्यार की कीमत, पुलिस ने दोषियों को किया गिरफ्तार

मुजफ्फरपुर शेल्टर केस में नागेशवर राव पर अवमानना के आरोप में सुप्रीम कोर्ट ने लगाया 1 लाख का जुर्माना, दिनभर कोर्टरूम के कमरे रहेंगे बैठे

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, एम नागेश्वर राव को अवमानना का नोटिस, दिल्ली ट्रांसफर किया केस

लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में नीतीश कुमार को तो गुजरात में राहुल गांधी को बड़ा झटका, दल बदलेंगे नेता

बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद, पूर्व सांसद मोहम्मद शाहबुद्दीन के भतीजे की गोली मारकर हत्या

आईआरसीटीसी घोटाला मामला: लालू यादव एंड फॅमिली को 1-1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर मिली जमानत, 11 फरवरी को होगी अगली सुनवाई

2018-11-27_SC.jpg

मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीएम नीतीश सरकार को फटकार लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने मामले में सरकार नाकामी को लेकर फटकार लगाते हुए अफआईआर कॉपी सही करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कॉपी को सही करने लिए बिहार सरकार को 24 घंटे का समय दिया है. इस केस की सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट में बिहार के मुख्य सचिव पहुंचे थे.

कोर्ट ने कहा कि आपने एफआईआर में हल्की धाराएं जोड़ी हैं. आईपीसी की धारा-377 के तहत भी मुकदमा होना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि ‘अगर हमें पता लगता है कि आईपीसी की धारा 377 और पॉस्को एक्ट के तहत जुर्म हुए हैं और आपने उन्हें एफआईआर में दर्ज नहीं किया है तो हम सरकार के खिलाफ आदेश जारी करेंगे.’

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को टारगेट करते हुए कहा कि आप क्या कर रहे हैं? यह शर्मनाक है. अगर बच्ची के साथ लागातार दष्कर्म हुआ है आप कहते हैं कुछ भी नहीं हुआ? भला आप ये कैसे कर सकते हैं? यह अमानवीय है. हमें बताया गया कि मामला बड़ी गंभीरता से देखा जाएगा, यह है आप की गंभीरता? हर बार जब मैं इस फाइल को पढ़ता हूं तो महसूस करता हूं कि ये दुखद है. 

कोर्ट ने आगे कहा कि 110 में से 17 शेल्टर होम में दुष्कर्म की घटनाएं हुईं. क्या सरकार की नजर में वो देश के बच्चे नहीं हैं? सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई कल बुधवार दोपहर दो बजे तक के लिए टाल दी है. इसके साथ ही मुख्य सचिव को भी आदेश दिए हैं कि वे सुनवाई के दौरान कोर्ट में ही मौजूद रहें. कोर्ट ने कहा आपका रवैया ऐसा है कि अगर किसी बच्चे के साथ दुराचार होता है तो आप जुवेनाइल बोर्ड के खिलाफ ही कार्रवाई कर देंगे.



loading...