मुजफ्फरपुर बालिका गृह केस: पूर्व मंत्री मंजू वर्मा को कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा

बिहार के गया में प्रेमी जोड़े ने जान देकर चुकाई प्यार की कीमत, पुलिस ने दोषियों को किया गिरफ्तार

मुजफ्फरपुर शेल्टर केस में नागेशवर राव पर अवमानना के आरोप में सुप्रीम कोर्ट ने लगाया 1 लाख का जुर्माना, दिनभर कोर्टरूम के कमरे रहेंगे बैठे

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, एम नागेश्वर राव को अवमानना का नोटिस, दिल्ली ट्रांसफर किया केस

लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में नीतीश कुमार को तो गुजरात में राहुल गांधी को बड़ा झटका, दल बदलेंगे नेता

बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद, पूर्व सांसद मोहम्मद शाहबुद्दीन के भतीजे की गोली मारकर हत्या

आईआरसीटीसी घोटाला मामला: लालू यादव एंड फॅमिली को 1-1 लाख रुपए के निजी मुचलके पर मिली जमानत, 11 फरवरी को होगी अगली सुनवाई

2018-11-22_ManjuVerma.jpg

बिहार सरकार की पूर्व मंत्री रहीं मंजू वर्मा को बेगूसराय कोर्ट ने एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है. उनके खिलाफ अवैध हथियार रखने के आरोप में मामला दर्ज है. वर्मा ने 20 नवंबर को कोर्ट में आत्मसमर्पण किया था. एक गाड़ी में तीन लोगों के साथ आकर उन्होंने चुपचाप बेगूसराय जिले के मंझौल न्यायालय में आत्मसमर्पण किया था. वह इजलास में आकर बेहोश हो गईं और थोड़ी देर बाद ही खड़ी भी हो गई थीं. बाद में उनके इलाज के लिए डॉक्टर को बुलाया गया था. उन पर आर्म्स एक्ट का केस चल रहा है.

इससे पहले बीते शुक्रवार सुबह बिहार पुलिस के एडीजी एसके सिंघल ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा था कि अगर मंजू वर्मा जल्द आत्मसमर्पण नहीं करती हैं तो बिहार पुलिस उनकी संपत्ति जब्त करेगी. एडीजी का ये बयान उस वक्त आया जब मंजू की गिरफ्तारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट बिहार पुलिस को फटकार लगा चुका है.

आपको बता दें कि गुरुवार को जनता दल यूनाइटेड ने पार्टी से मंजू वर्मा को निलंबित कर दिया था. मालूम हो कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 29 बच्चियों के साथ यौन उत्पीड़न की सनसनीखेज घटना के खुलासे के बाद बिहार सहित पूरे देश में इस घटना की चर्चा हुई थी.

वर्मा के घर से भारी मात्रा में गोला-बारूद मिला था. जिसके संबंध में पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही थी लेकिन उसके हाथ खाली थे. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी. वर्मा की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने बिहार और झारखंड स्थित कई ठिकानों पर छापेमारी की थी. मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले की सीबीआई जांच के दौरान उनके घर से गोला बारूद मिला था. इस घटना के बाद से ही वह फरार चल रही थीं.



loading...