मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेपकांड: बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने इस्तीफा दिया

2018-08-08_Manju-Verma-resigns.jpeg

मुजफ्फरपुर दुष्कर्म मामले में बिहार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा ने बुधवार को इस्तीफा दे दिया। इस मामले में उनके पति चंद्रशेखर वर्मा पर मुख्य आरोपी ब्रजेश सिंह से नजदीकी के आरोप हैं। बच्चियों के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद से चंद्रशेखर गायब है। सीडीआर रिकॉर्ड में सामने आया कि ब्रजेश और चंद्रशेखर के बीच इस साल 5 महीनों में 17 बार फोन पर बातचीत हुई। दोनों की मुलाकात भी होती थी और दिल्ली के एक टूर पर दोनोें साथ थे। आरोप है कि चंद्रशेखर शेल्टर होम भी जाता था।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि बुधवार को मंजू वर्मा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने पहुंची और इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि पहले वे ऐसा कर देतीं तो पार्टी को इतनी परेशानी न झेलनी पड़ती। हालांकि, इससे पहले सोमवार को नीतीश कुमार ने मंजू वर्मा का बचाव किया। उन्होंने कहा था- मंत्री ने सभी आरोपों से इनकार किया है इसिलए इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता।

बुधवार को पेशी के दौरान ब्रजेश ठाकुर ने मीडिया से कहा- ''मैं कांग्रेस से चुनाव लड़ने वाला था इसलिए मुझे फंसाया जा रहा है। समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा से मेरा कोई संबंध नहीं है। उससे फोन पर केवल राजनीतिक मसलों पर बात हुई। इस केस में किसी भी बच्ची ने बयान में मेरा नाम नहीं लिया है, चाहे तो केस डायरी उठा कर देख लें। न्यायाधीश बालिका गृह आते थे। मैं मधु को नहीं जानता। यह भी नहीं जानता कि वह कौन थी और कहां की रहने वाली थी? वह महिलाओं के लिए एक संस्था में काम करती थी, इसके बाद मेरे एनजीओ से जुड़ी थी।" इस दौरान कोर्ट परिसर में बृजेश पर सांसद पप्पू यादव की पार्टी जन अधिकार मोर्चा की महिला कार्यकर्ताओं ने कालिख फेंक दी।

मुंबई के टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की 'कोशिश' टीम की सोशल ऑडिट रिपोर्ट में इस मामले का खुलासा हुआ था। इसके बाद बालिका गृह से 44 किशोरियों को 31 मई को मुक्त कराया गया। जांच में 34 बच्चियों का यौन शोषण किए जाने की पुष्टि हुई। आरोप है कि टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज मुंबई की रिपोर्ट समाज कल्याण विभाग ने दो माह तक दबाए रखी। राजद-कांग्रेस ने भी आरोप लगाया कि मंजू वर्मा के इस्तीफे के बिना इस मामले की निष्पक्ष जांच संभव नहीं।

राजद प्रवक्ता वीरेंद्र ने कहा- ब्रजेश के बेटे के जन्मदिन में केक तभी कटता था, तब नीतीश पहुंचते थे। नीतीश के उत्तर बिहार के दौरे का सारा इंतजाम ब्रजेश करता था। नीतीश और ब्रजेश के रिश्ते गहरे हैं। उधर, कांग्रेस नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि ब्रजेश का बयान हास्यास्पद है। नीतीश और सुशील मोदी का दबाव पड़ने के बाद वह कांग्रेस का नाम ले रहा है।



loading...