#Metoo के आरोप में फंसे नाना पाटेकर के खिलाफ मुंबई पुलिस को नहीं मिला कोई सबूत, जल्द हो सकते हैं बरी

2019-06-13_NanaTanushree.jpg

2018 में बॉलीवुड में शुरू हुए मीटू मूवमेंट में फंसे एक्टर नाना पाटेकर को बड़ी राहत मिली है. जांच में नाना पाटेकर के खिलाफ पुलिस को सबूत नहीं मिले हैं. पुलिस ने अंधेरी कोर्ट में बी समरी रिपोर्ट फाइल की है. सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में कहा गया है कि सेक्सुअल हैरासमेंट के तनुश्री दत्ता के आरोपों को लेकर पहली नजर में नाना के खिलाफ कोई सबूत नहीं पाए गए. सबूत नहीं मिलने के बाद पुलिस ने नाना के खिलाफ केस की फाइल बंद कर दी हैं. पुलिस की तरफ से नाना पाटेकर को क्लीन चिट मिलने की खबर पिछले एक दो दिन से आ रही थी, जिसके बाद तनुश्री दत्ता ने कहा था कि ये खबर झूठी है. नाना पाटेकर की पीआर टीम की तरफ से फैलाई जा रही है.

ओशिवारा पुलिस ने बुधवार (12 तारीख) B समरी( पुलिस ने मामले की जांच) रिपोर्ट अंधेरी कोर्ट में दायर की. रिपोर्ट में नाना के ख़िलाफ़ पुख्ता सबूत ना मिलने की बात कही गई है और अब इस मामले में नाना पाटेकर पूरी तरह बरी हो सकते हैं. वहीं तनुश्री के वकील का कहना है कि उन्हें इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं है और अगर ऐसा हुआ है तो वो कोर्ट में इस मामले की फिर से जांच करने की मांग करेंगे.

ये खबर जहां नाना पाटेकर के लिए बड़ी राहत लेकर आई है वहीं झूठे आरोपों को लेकर तनुश्री दत्ता की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. तनुश्री दत्ता ने पिछले साल शिकायत दर्ज करवाई थी कि नाना पाटेकर ने फिल्म Horn Ok Pleasss  के सेट पर उनके साथ बदसलूकी की थी. तनुश्री का आरोप था कि एक गाने को शूट करते वक्त नाना पाटेकर जबरदस्ती खुद को थोप रहे थे और इंटीमेट स्टेप्स के लिए दबाव डाल रहे थे. ये गाना कोरियोग्राफर गणेश आचार्य के डांस डायरेक्शन में शूट हो रहा था. बाद में ये गाना तनुश्री ने छोड़ दिया था और उनकी जगह राखी सावंत ने शूट किया था.

आपको बता दें कि पिछले साल तनुश्री दत्ता के नाना पर आरोपों के बाद #Metoo मुहिम शुरू हुई थी और बालीवुड के कई दिग्गज हस्तियां सुभाष घई, आलोकनाथ, साजिद खान, अनु मलिक और रजत कपूर भी आरोपों के घेरे में आए थे. तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर कथित छेड़छाड़ का आरोप मामला दर्ज कराया था.



loading...