Movie Review: राजी

2018-05-11_raazi-movie-review.jpg

प्रोड्यूसर: करन जौहर, विनीत जैन, प्रीति शाहनी
डायरेक्टर: मेघना गुलजार
स्टार कास्ट: आलिया भट्ट, विक्की कौशल, रजित कपूर, सोनी राजदान
म्यूजिक डायरेक्टर: शंकर एहसान लॉय
रेटिंग ***1/2

बॉलीवुड में वैसे तो देशभक्ति  पर कई फ़िल्में बनी हैं लेकिन मेघना गुलजार की ‘राजी’ उनमें से कुछ अलग है। देश के लिए जान कुर्बान कर देने वाले कुछ लोग ऐसे होते हैं  जिनका न कोई नाम होता है न ही कोई पहचान। अगर उनके हिस्से में कुछ आता है तो वो है देश के झंडे पर कभी न मिटने वाली याद। ऐसी ही है,  ‘ए वतन मेरे वतन आबाद रहे तू’ और ‘वतन के आगे कुछ भी नहीं खुद भी नहीं’ जैसे दमदार संवाद अदायगी वाली फिल्म ‘राज़ी’

कहानी: राजी एक युवा भारतीय जासूस सहमत (आलिया भट्ट) की सच्ची कहानी है। बात उस दौर की है, जब 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण माहौल बना हुआ था, जो बाद में युद्ध का कारण बनता है। हरिंदर सिक्का के नॉवेल 'सहमत कॉलिंग' पर बेस्ड यह फिल्म हमें एक रोमांचकारी यात्रा पर ले जाती है,क्योंकि सहमत के हाथों में एक बहुत ही कठिन काम है। सहमत के पिता (रजित कपूर) इंडियन इंटेलिजेंस में एजेंट हैं और वे अपनी बेटी को भी यही जिम्मेदारी सौंपना चाहते हैं, जो कि अभी स्टूडेंट है। प्लान के तहत वे सहमत की शादी पाकिस्तानी मिलेट्री ऑफिसर के बेटे (विक्की कौशल) से करा देते हैं। इस तरह सहमत को पाकिस्तानी जनरल के घर में आसानी से एंट्री मिल जाती है। सहमत का पति उसे बेहद प्यार करता है। बावजूद इसके उसके ऊपर अपने ही परिवार की जासूसी करने का कठिन काम है। एक स्टूडेंट को अचानक मोर्स कोड, सेल्फ डिफेंस और और सीक्रेट रेडियो सिग्नल्स की दुनिया में छोड़ दिया जाता है। 20 साल की एक लड़की, जो खून के आसपास खड़ी भी नहीं हो सकती, उसे किसी को मारने के लिए मजबूर किया जाता है। सहमत की यह यात्रा थ्रिलर से ज्यादा इमोशनल है।

फिल्म का म्यूजिक: शंकर एहसान लॉय का कम्पोजीशन और मेघना के पिता गुलजार के लिरिक्स फिल्म के संगीत को जबर्दस्त बनाते हैं। फिल्म में ‘दिलबरो’, ‘ऐ वतन’, ‘राजी’ गाने काफी अच्छे हैं जो आपको काफी पसंद आएंगे। खासकर ‘ए वतन’ जो फिल्म के ख़त्म होने के बाद भी आपके जुबान पर चढ़ा रहता है। 

अभिनय: अगर फिल्म में एक्टिंग की बात करें तो, एक बेटी, एक जासूस और एक पत्नी के किरदार को आलिया ने बखूबी पर्दे पर निभाया है। उनकी दमदार एक्टिंग ही इस फिल्म को खास बनाती है। पाक आर्मी ऑफिसर के किरदार में विक्की कौशल का काम सराहनीय है। वहीं जयदीप अहलावत, रजित कपूर और सोनी राजदान का अभिनय भी कमाल का है।

निर्देशन: मेघना गुलजार के निर्देशन में बनी ये फिल्म उतनी रोमांचकारी नहीं है जितना की ट्रेलर देखने के बाद लगा था। फिल्म की कहानी को आसानी से प्रिडिक्ट किया जा सकता है। फिल्म को कश्मीर की वादियों में शूट किया गया है।

अगर आप आलिया भट्ट के जबर्दस्त परफ़ॉर्मेंस, बेहतरीन संगीत और सहमत की इंसपायरिंग जर्नी के लिए फिल्म एक बार जरूर देखनी चाहिए। फिल्म पूरी तरह से पैसा वसूल है।



loading...