ताज़ा खबर

Movie Review: हिचकी

2018-03-23_movie-review-hichki.jpg

प्रोड्यूसर: आदित्य चोपड़ा, मनीष शर्मा
डायरेक्टर: सिद्धार्थ पी मल्होत्रा
स्टार कास्ट: रानी मुखर्जी, सुप्रिया पिलगांवकर, हर्ष मेयर, सचिन पिलगांवकर
म्यूजिक डायरेक्टर: हितेश सोनिक, जसलीन रॉयल
रेटिंग ***

हर किसी की जिंदगी में एक ‘हिचकी’ होती है फर्क बस इतना है कि कोई इसे किस्मत की नियती मानकर समझौता कर लेता है तो कोई इस कमजोरी को अपनी ताकत बनाकर रास्ते में आने वाली बाधाओं से लड़ता है। रानी मुखर्जी की फिल्म ‘हिचकी’ भी इसी संघर्ष के बारे में है। शुक्रवार को ये फिल्म रिलीज हो गई है। इस फिल्म को सिद्धार्थ पी मल्होत्रा  ने डायरेक्ट किया है और मनीष शर्मा  ने प्रोड्यूस  किया है।

कहानी: यशराज फिल्म के बैनर तले बनी फिल्म 'हिचकी', हॉलीवुड मूवी 'फ्रंट ऑफ द क्लास' से प्रेरित है। फिल्म की कहानी नैना माथुर से शुरू होती है, जिसे टॉरेट सिंड्रोम यानी बोलने में थोड़ी दिक्कत होती है। इसी वजह से उसे टीचर की जॉब मिलने में भी परेशानी होती है। लेकिन उसे एक स्कूल में नौकरी मिलती है और 14 झुग्गी-बस्ती के बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी जाती है। इन बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी तो नैना ले लेती है, लेकिन ये बच्चे नैना को रोज नए-नए तरीकों से परेशानी करते हैं। क्या नैना इन बच्चों को सुधार पाती है, क्या ये बच्चे नैना को एक अच्छी टीचर साबित करने में उसकी मदद करते हैं, स्कूल के प्रिंसिपल का रवैया कैसा होता ? ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म का म्यूजिक: फिल्म का म्यूजिक ठीक-ठाक है। फिल्म रिलीज से पहले इसका एकाध गाना सामने आया था।

अभिनय: अगर फिल्म में एक्टिंग की बात करें तो, 4 साल बाद रानी मुखर्जी ने फिल्म 'हिचकी' से कमबैक किया है। पूरी फिल्म रानी के कंधों पर टिकी है। उन्होंने अपने किरदार की बखूबी निभाया है। सचिन और प्रिया पिलगांवकर ने रानी के पेरेंट्स का किरदार निभाया है। रानी के भाई के रोल में हुसैन दलाल ठीक ही नजर आए हैं। भाई-बहन के रिश्ते को और मजबूती से दिखाया जा सकता था।

निर्देशन: डायरेक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा की फिल्म 'हिचकी' में कुछ भी नयापन नहीं है। फिल्म देखते समय आगे क्या होने वाले ये पहले ही समझ आ जाता है। फिल्म गरीब बच्चों की कहानी है जो लाइफ में कुछ नहीं करना चाहते और इनकी जिंदगी एक टीचर बदलती है। सिद्धार्थ कहानी को स्क्रीन पर सही तरीके से नहीं उतार पाए। फिल्म काफी काल्पनिक है। असल जिंदगी में ऐसा होता नहीं है। फिल्म का क्लाइमैक्स और इसके ट्विस्ट काफी उबाऊ हैं।

यदि आप रानी मुखर्जी के फैन है तो ही फिल्म देखने जाए।



loading...