Movie Review : बेवॉच

2017-06-02_Baywatch-Movie-Review.jpg

प्रोड्यूसर : ईवान रिटमैन , माइकल बर्क, डगलस स्वार्ट्ज
डायरेक्टर : सेथ गोर्डन
स्टार कास्ट : ड्वेन जॉनसन, जैक एफ्रॉन, प्रियंका चोपड़ा, एलेग्जेंड्रा डड्डारियो, जान बास, डेविड हेसेलाफ
म्यूजिक डायरेक्टर : क्रिस्टफर लैनर्ट्ज
रेटिंग **

पिछले कुछ समय हिंदुस्तान में हॉलीवुड फिल्मों को लेकर काफी उत्सुकता देखने को मिली. इसकी बड़ी वजह है प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण. क्योंकि बॉलीवुड की ये दोनों ही फेमस एक्ट्रेस हॉलीवुड की 2 बड़ी फिल्मों का हिस्सा बनी. दीपिका की फिल्म ‘ट्रिपल एक्स: रिटर्न ऑफ जेंडर केज’ कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई थी. ऐसे में अब प्रियंका चोपड़ा की फिल्म ‘बेवॉच’ भी रिलीज हो चुकी. हालांकि ये फ़िल्म अमेरिका में एक हफ्ते पहले 25 मई को ही रिलीज हो चुकी थी जहां फ़िल्म को कुछ खास रिव्यू नहीं मिले. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या इस फ़िल्म में भारतीय दर्शकों को खुश कर पाने का माद्दा है? जानते हैं कैसी है फिल्म:-

कहानी
यह कहानी कैलिफोर्निया के समुद्र के किनारे की लाइफ गार्ड्स यानी बेवॉच टीम की है, जिसके हेड मिच (ड्वेन जान्सन) हैं. मिच अपनी टीम के साथ समुद्र के किनारे हो रही हर घटना पर ध्यान रखते हैं. एक बार काउंसिल ने मिच की टीम में अवॉर्ड विनिंग मैट ब्राडी (जैक एफ्रान) को शामिल किया, जिससे मिच को ज्यादा खुशी नहीं हुई क्योंकि मैट अपने काम में लापरवाही बरतते हुए नजर आते हैं. लेकिन धीरे-धीरे मैट, मिच और टीम के साथ घुलने-मिलने लगते हैं. कहानी में ट्विस्ट तब आता है, जब बीच के पास ड्रग्स के बैग्स पाए जाते हैं और इसका पूरा शक बिजनेस वुमन विक्टोरिया लीड्स(प्रियंका चोपड़ा) पर किया जाता है. इसके बाद कहानी में कई ट्विस्ट और टर्न आते हैं. कैसे मिच और उसकी पूरी टीम इस रैकेट का पर्दाफाश करती है? यह जानने के लिए आपको नजदीकी सिनेमाघर तक जाना होगा.

फिल्म का म्यूजिक
फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर बढ़िया है, जो कहानी के फ्लो के साथ जाता है.

फिल्म की स्टारकास्ट काफी दिलचस्प है. एक तरफ सुपरस्टार ड्वेन जॉनसन हैं। वहीं जवां दिलों पर राज करने वाले जैक एफ्रॉन भी हैं। इन दोनों एक्टर्स ने बखूब काम किया है। दोनों के बीच में दिलचस्प सीन भी आते हैं. देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा के सीक्वेंस भी अच्छे हैं, लेकिन उनका इस्तेमाल और भी बेहतर तरीके से किया जा सकता था। बाकी सब कलाकारों ने अच्छा काम किया है.

फिल्म का डायरेक्शन बहुत ही बढ़िया है. साथ ही समुद्र के भीतर और आसपास के इलाकों की शूटिंग दिलचस्प है. सिनेमेटोग्राफी और कैमरा वर्क कमाल का है. फाइट सीक्वेंस भी बेहतरीन शूट किए गए. फिल्म का सबसे कमजोर हिस्सा इसकी कहानी है, जो कि घिसी-पिटी है और आपको पता होता है कि अगले पल में क्या होने वाला है. कहानी पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत थी. क्योंकि हॉलीवुड फिल्मों की एक अलग ऑडियंस होती है और उसे खुश कर पाना बहुत ही मुश्किल काम है. फिल्म का क्लाइमेक्स भी बहुत कमजोर है.

अगर आप ड्वेन जॉनसन, जैक एफ्रॉन और प्रियंका चोपड़ा के बहुत बड़े फैन हैं, तो एक बार यह फिल्म देख सकते हैं.



loading...